रिश्तों में ज़रूरत से ज़्यादा स्पेस कहीं कर न दे अपनों को दूर…(Too much space in relationships can be dangerous)

कभी हाथों में थामे हाथ, तो कभी लबों पर बस तेरी ही बात… धीरे-धीरे ख़्वाब छूटे… लबों पर बसे जज़्बात छूटे… दिल की हसरतें बाकी तो हैं अभी, पर न जाने किस मोड़ पर कुछ एहसास छूटे… न तुमको ख़बर हुई, न हमें पता चला… कब साथ चलते-चलते हमारे हाथ छूटे…

Space in relationships

अक्सर ऐसा होता है कि हम अपने रिश्ते में समझ ही नहीं पाते कि कब और कैसे इतनी दूरियां (Space in relationships) आ गईं, जबकि पीछे मुड़कर देखते हैं, तो यही लगता है कि सब कुछ तो ठीक ही था… जी हां, ऐसा इसलिए होता है कि हम सो कॉल्ड स्पेस के नाम पर कुछ ज़्यादा ही दूरियां बना लेते हैं और कब ये दूरियां रिश्तों को ख़त्म करने लगती हैं, हमें एहसास ही नहीं होता.

अति किसी भी चीज़ की सही नहीं: चाहे कोई अच्छी ही चीज़ क्यों न हो, पर ओवरडोज़ किसी भी चीज़ का सही नहीं है.

– यह ठीक है कि आपको बार-बार पार्टनर को टोकना या उसके किसी भी काम में दख़ल देना पसंद नहीं, लेकिन इसका यह भी अर्थ नहीं कि बिल्कुल ही न टोकें.

– हो सकता है आपके न टोकने का कोई ग़लत मतलब निकाल ले. इससे न स़िर्फ रिश्ते में दूरियां बढ़ेंगी, बल्कि नीरसता भी आएगी.

– पार्टनर को लगेगा कि आपको तो उनकी किसी भी बात से कोई फ़र्क़ ही नहीं पड़ता और दूसरी तरफ़ यह भी हो सकता है कि वो ग़लत राह पर भी चले जाएं.

विश्‍वास और अंधविश्‍वास के बीच का फ़र्क़ समझें: आप एक-दूसरे पर भरोसा करते हैं, यह अच्छी बात है. लेकिन चेक कर लें कि कहीं यह विश्‍वास अंधविश्‍वास में तो तब्दील नहीं हो गया?

– जी हां, अक्सर ऐसा ही होता है, जब हम आंख मूंदकर भरोसा करते हैं, तो भरोसा टूट भी सकता है. और तब बहुत अधिक तकलीफ़ होती है और इस बात का मलाल भी कि क्यों नहीं थोड़ी-सी सतर्कता व सावधानी बरती.

स्पेस का मतलब लापरवाह होना नहीं: हर बात पर आजकल यह जुमला चिपका दिया जाता है कि हर रिश्ते में स्पेस ज़रूरी है, लेकिन स्पेस कितना और किस हद तक, इसका दायरा भी तो हमें ही तय करना होगा.

– स्पेस के नाम पर आप अपने रिश्ते के प्रति इतने लापरवाह न हो जाएं कि एक-दूसरे की तरफ़ ध्यान ही न दें और धीरे-धीरे रिश्ते में से रोमांस ही गायब हो जाए.

कम्यूनिकेशन न के बराबर ही तो नहीं रह गया: यह सही है कि दिनभर जासूसों की तरह पार्टनर की ख़बर या उस पर नज़र रखना ठीक नहीं, लेकिन ख़बर ही न रखना ख़तरे की निशानी है.

– ऐसे में कम्यूनिकेशन गैप इस हद तक बढ़ जाता है कि यदि आप कुछ सवाल करते भी हैं, तो पार्टनर को वो दख़लअंदाज़ी लगने लगता है, क्योंकि उसको आदत ही नहीं इसकी.

स्पेस का सही अर्थ समझें: स्पेस का मतलब रिश्ते के प्रति बेपरवाह हो जाना नहीं होता.

– स्पेस(Space in relationships) उतना ही होना चाहिए, जितना रिश्ते को सांस लेने के लिए ज़रूरी हो. उसे खुली हवा में छोड़ देंगे, तो वो बेलगाम पतंग की तरह छूटता ही जाएगा.

– आजकल अक्सर कपल्स अपने-अपने फोन्स पर, विभिन्न सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर बिज़ी रहते हैं और दोनों ही पार्टनर्स को इसमें दिलचस्पी कम ही रहती है कि उसका पार्टनर कहां किसके साथ बिज़ी है.

– फोन नहीं, तो लैपटॉप्स या टीवी देखने में लोग अधिक समय बिताना पसंद करते हैं, बजाय एक-दूसरे के साथ के.

– डिजिटल वर्ल्ड ने भी हमें स्पेस के नाम पर बहुत ज़्यादा ओपन स्पेस दे दिया है, जहां हम अपने रिश्तों से दूर होते जाते हैं और नए-नए रिश्तों के जाल में फंसते चले जाते हैं.

– बेहतर होगा इससे बचें या कम से कम इस पर नज़र रखें.

छूट के नाम पर असंतुलित तो नहीं हो गया रिश्ता: आपको अंदाज़ा भी नहीं हो पाता कि कब आपका वो रिश्ता असंतुलित हो गया, जिसे आप अब तक परफेक्ट समझ रहे थे.

– इतना स्पेस दिया कि आप दोनों के बीच अब स़िर्फ स्पेस ही रह गया. बैलेंस या संतुलन बेहद ज़रूरी है हर रिश्ते के लिए.

– पार्टनर का डेली रूटीन, उसके फ्रेंड्स, वो किससे बात करता है, किसके मेल्स उसे आते हैं आदि बातों की कम से कम हल्की-सी जानकारी ज़रूर रखें.

shutterstock_66520309

क्या करें, क्या न करें?

– एक-दूसरे पर भरोसा करें, लेकिन आंखें न मूंद लें.

– इतने भी बेपरवाह न हो जाएं कि रिश्ते से रोमांस गायब होने लगे.

– रिश्ते में गर्माहट बनाए रखने के लिए रोमांटिक बातें करें, डेट्स प्लान करें.

– निजी पलों को जीने के लिए व़क्त ज़रूर निकालें. एक-दूसरे की कंपनी एंजॉय करें और कभी-कभी सरप्राइज़ भी दें.

– ऐसा न हो कि आप दोनों ही अपने-अपने फ्रेंड्स सर्कल के साथ ही पार्टी करते रह जाएं और यह भी याद न रहे कि आख़िरी बार आप दोनों ने साथ में व़क्त कब गुज़ारा था.

– अगर आपको लग रहा है कि आपका रिश्ता पहले जैसा नहीं रहा, तो उसके कारणों पर आपस में बैठकर चर्चा करें और समाधान भी निकालें.

– थोड़ी रोक-टोक और दख़लअंदाज़ी रिश्तों में जीवंतता बनाए रखती है. इसे रिश्तों से गायब न होने दें.

Space in relationships

हर रिश्ते पर यही नियम लागू होता है

– चाहे पैरेंट्स हों, भाई-बहन, दोस्ती या अन्य कोई भी रिश्ता, ज़रूरत से ज़्यादा स्पेस आपके बीच दूरियां ही बढ़ाएगी.

– अगर पैरेंट्स बच्चों को ज़रूरत से ज़्यादा स्पेस देते हैं, तो हो सकता है वो भटक जाएं.

– बच्चों को अनुशासन में रखना उनकी ज़िम्मेदारी है, कुछ नियम और निर्देशों का पालन हर रिश्ते में ज़रूरी होता ही है, वरना प्रतिबद्धता और रिश्ते में भरोसा रह ही नहीं जाता.

– लेकिन आज की जनरेशन इसी अनुशासन को निजी जीवन में दख़लअंदाज़ी मानती है, जिससे सीमा रेखा तय करना थोड़ा मुश्किल हो जाता है.

– एक व़क्त था, जब भाई-बहन या सिबलिंग्स आपस में बहुत-से सीक्रेट्स शेयर करते थे, लेकिन अब ‘स्पेस’ के नाम पर सब कुछ सीक्रेट ही रह जाता है और अगर किसी से कुछ पूछो, तो जवाब यही मिलता है कि ये हमारी पर्सनल लाइफ है, आख़िर हमें भी तो स्पेस चाहिए. 

– इसी चक्कर में एक व़क्त ऐसा आता है, जब स़िर्फ स्पेस ही रह जाता है. बेहतर होगा, व़क्त रहते इस स्थिति को समझें और अपने रिश्ते को सेफ करें.

– गीता शर्मा