रिश्तों में बढ़ रहा है जासूसी का चलन (Why People Are Hiring Detectives To Spy On Their Loved Ones)

जनम-जनम का बंधन कहा जाने वाला शादी का रिश्ता कई बार कुछ क़दम भी साथ नहीं चल पाता… कई बार बाद में पता चलता है कि ये शादी नहीं साजिश थी… शादी जैसे पवित्र रिश्ते में जब मिलता है धोखा, तो क्या होता है… ऐसे ही कुछ पेचीदा सवालों के जवाब जानने के लिए हम मिले देश की पहली महिला जासूस रजनी पंडित (Detective Rajani Pandit) से. रजनी पंडित (Detective Rajani Pandit) ने हमें बताया कि रिश्तों में बढ़ती धोखाधड़ी के कारण अब रिश्तों में जासूसी का ट्रेंड बढ़ गया है. जब रिश्ते में कहीं कोई गड़बड़ी नज़र आने लगती है, तो लोग उसकी सच्चाई जानने के लिए जासूसी का सहारा लेते हैं.

Detective Rajani Pandit

क्यों बढ़ रही है रिश्तों में जासूसी?
डिटेक्टिव रजनी पंडित (Detective Rajani Pandit) के अनुसार, कई लोग अपने रिश्तों के प्रति ईमानदार नहीं होते. उन्हें किसी की भावनाओं से कोई लेना देना नहीं होता. वो बड़ी ख़ामोशी से अपने रिश्तों को धोखा देते रहते हैं. लेकिन जब उन पर शक की सूई घूमने लगती है, तो सच्चाई उजागर करने के लिए जासूसी का सहारा लिया जाता है. डिटेक्टिव रजनी पंडित ने हमारे साथ रिश्तों में जासूसी के कुछ अजीबोगरीब केस कुछ इस तरह शेयर किए:

Detective Rajani Pandit

सोशल मीडिया का प्यार
62 वर्ष की एक बुजुर्ग महिला के पति का देहांत हो चुका था. फिर सोशल मीडिया पर अपने हमउम्र एक विदेश में रहने वाले पुरुष से उनकी दोस्ती हो गई. दोनों घंटों चैट करते रहते थे. विदेश में रहनेवाले उस पुरुष ने बताया कि उसका वहां बहुत बड़ा बिज़नेस है, लेकिन बच्चे अपनी दुनिया में व्यस्त रहते हैं इसलिए वो बहुत अकेलापन महसूस करते हैं. महिला की स्थिति भी कुछ ऐसी ही थी, उनके बच्चे विदेश में रहते थे इसलिए उनकी ज़िंदगी में भी बहुत अकेलापन था. जल्दी ही दोनों को महसूस होने लगा कि अब उन्हें साथ रहना चाहिए. महिला उनके साथ काफ़ी जुड़ाव महसूस करने लगी थी. वो उनके लिए काफ़ी महंगे गिफ्ट भी भेजा करती थी.
हां, जब बदले में उसे कोई गिफ्ट न मिलता तो उसे अजीब ज़रूर लगता, लेकिन उन्होंने सोचा, हर किसी का अपना स्वभाव होता है. शायद उन्हें गिफ्ट लेना-देना पसंद न हो. फिर एक बार पुरुष ने कहा कि वो उनसे मिलने इंडिया आ रहे हैं. वो उनसे मिलने के लिए बहुत ख़ुश थीं. फिर पुरुष ने उनसे एक बड़ा अमाउंट बैंक से निकालकर रखने को कहा. पूछने पर कहा कि मेरे लिए इतना अमाउंट यहां से लाना मुश्किल है इसलिए फिलहाल तुम निकाल लो. बाद में मैं तुम्हारे अकाउंट में ट्रांसफर कर दूंगा.

…और फिर शुरू हुई जासूसी
उन्हें ये बात बड़ी अजीब लगी कि इतना बड़ा बिज़नेसमैन पैसे क्यों नहीं ला सकता. उन्हें शक हुआ, तो उन्होंने ये बात डिटेक्टिव रजनी पंडित से शेयर की. जब रजनी की टीम ने उनकी छानबीन की, तो पता चला सोशल मीडिया पर जो फोटो थी, उससे इस आदमी का चेहरा मैच नहीं करता. वो 30-35 साल का युवा था और उसने उस बुजुर्ग महिला से पैसे ऐंठने के लिए वो फोटो लगा रखी थी.

क्या सबक लें?
अगर सही समय पर वो सतर्क न होतीं, तो वो उन्हें बेवकूफ़ बनाकर उनसे न जाने कितने पैसे ठग लेता. रजनी पंडित की टीम ने उस महिला से कहा कि आप उस आदमी की पुलिस कंप्लेंट करो, लेकिन उन्होंने ये कहकर मना कर दिया कि मेरे बेटे-बहू के सामने मेरी बेइज़्ज़ती हो जाएगी. इसलिए उन्होंने बात को वहीं दबा दिया. समाज के डर से महिलाएं आगे नहीं आतीं, अपने हक़ के लिए आवाज़ नहीं उठातीं, इसीलिए दोषियों का हौसला बढ़ता है और वे बार-बार क्राइम (अपराध) करते हैं.

यह भी पढ़ें: रिश्तों को आजकल हुआ क्या है? (What Is Wrong With Relationship These Days?)

 

लव, शादी और धोखा
अभिषेक का तलाक़ हो चुका था इसलिए माता-पिता ने उसके लिए दूसरी लड़की ढूंढ़ी और सबकी रजामंदी से उसकी दूसरी शादी हो गई. शादी के कुछ ही समय बाद अभिषेक को अपनी पत्नी के अ़फेयर की बात पता चली. सुनकर वो हैरान रह गया. उसने पत्नी से जब इस बारे में बात की, तो पत्नी ने कहा कि उसने माता-पिता के प्रेशर में आकर उससे शादी की, उसका शादी से पहले ही अफेयर चल रहा है. उसने अभिषेक से कहा कि वो उससे तलाक़ चाहती है. पत्नी की बातें सुनकर अभिषेक और परेशान हो गया. उसे समझ नहीं आ रहा था कि वो क्या करे. क्या वो एक बार फिर से तलाक़ ले? लेकिन बार-बार तलाक़ लेने से लोग उसे ही दोषी समझेंगे, ये सोचकर अभिषेक ने चुप रहना ही सही समझा.

…और फिर शुरू हुई जासूसी
पत्नी की हरकतें जब हद से ज़्यादा बढ़ने लगीं, तो अभिषेक ने जासूस रजनी पंडित से कॉन्टेक्ट किया. अभिषेक की पत्नी की जासूसी करने से पता चला कि उसका बॉयफ्रेंड बहुत नशा करता है और उससे अक्सर पैसे मांगता है. वो उसे अभिषेक से तलाक लेकर मोटी रकम बसूलने को कहता है.

क्या सबक लें?
सोच-समझकर रिश्ता तय करें. शादी के बाद तलाक लेने में बहुत मुश्किल होती है, दोनों परिवार डिस्टर्ब हो जाते हैं इसलिए शादी तय करते समय दोनों पक्षों पूरी जांच-पड़ताल कर लें.

Detective Rajani Pandit

जब टूटता है विश्‍वास
शाह परिवार को बहू के रूप में रुचिता बहुत पसंद थी. हां, रुचिता का मोटापा उनकी चिंता का कारण था, लेकिन उन्हें उसका व्यवहार इतना पसंद था कि उन्होंने शादी से पहले उसका वेट लॉस ट्रीटमेंट करवाया, ताकि उनके घर आकर या उनके रिश्तेदारों के बीच उठने-बैठने में उसे किसी तरह हीनभावना न हो. रुचिता ने भी ससुराल वालों के अनुरूप ख़ुद का मेकओवर किया. उसने फैशन डिज़ाइनिंग का कोर्स किया था इसलिए ससुराल वालों ने उसे बुटीक खोलकर दिया. लेकिन मेकओवर के बाद रुचिता का कॉन्फिडेंस इतना ज़्यादा बढ़ गया कि वो न स़िर्फ ज़रूरत से ज़्यादा छोटे कपड़े पहनने लगी, बल्कि शराब भी पीने लगी थी. साथ ही वो काम का हवाला देकर देर रात घर आने लगी.

…और फिर शुरू हुई जासूसी
बहू में आये इस बदलाव को देखकर ससुराल वालों को शक हुआ और उन्होंने रुचिता की जासूसी करवाई. तब पता चला कि उसकी दोस्ती अच्छे लोगों के साथ नहीं है. वो देर रात तक ऐसे लोगों के साथ घूमती-फिरती है, जिनके लिए रोज़ पार्टी, शराब और जिस्मानी रिश्ता आम बात है.

क्या सबक लें?
किसी पर भी आंख मूंदकर विश्‍वास न करें. यदि परिवार के किसी सदस्य में अचानक ऐसे बदलाव नज़र आएं, जो अजीबोगरीब हों, तो इस बात को नज़रअंदाज़ न करें. इससे पहले कि बहुत देर हो जाए, सचेत होना ज़रूरी है.

यह भी पढ़ें: रिश्ते में बर्दाश्त न करें ये 10 बातें (10 Things Never Adjust In A Relationship)

 

जब बीवी करे ब्लैकमेल
वैभव शादी के बाद बीवी को लेकर विदेश गया. कुछ समय तक तो सबकुछ नॉर्मल था. नियमित रूप से वो अपने माता-पिता को इंडिया में फोन करता था, फिर अचानक सब बंद हो गया. वैभव कहां है, क्या कर रहा है, उसकी पत्नी कैसी है… कोई ख़बर नहीं.

…और फिर शुरू हुई जासूसी
जब बेटे की कोई ख़बर न मिली, तो वैभव के माता-पिता ने जासूस रजनी पंडित की टीम से उसके बारे में पता करने को कहा. रजनी पंडित की टीम ने जब वहां जाकर पता किया तो पता चला कि वैभव अपने माता-पिता को भी अपने साथ बुलाना चाहता था. उनके पेपरवर्क की तैयारी कर रहा था, लेकिन उसकी बीवी ऐसा नहीं चाहती थी इसलिए उसने वैभव को धमकी दी कि यदि उसने अपने पैरेंट्स को बुलाया, तो वो उसे तलाक़ दे देगी. पत्नी के डर से वैभव ने घर फोन करना ही छोड़ दिया.

क्या सबक लें?
डरकर न रहें. अपनी बात परिवार के साथ शेयर करें. यदि आपका पति या पत्नी आप पर ग़लत काम के लिए दबाव डालें, तो पहले उन्हें समझाने की कोशिश करें. इससे भी बात न बने, तो काउंसलर या एक्सपर्ट का सहारा लें.

रिश्तों में जासूसी के ऐसे कई केस अब एक्सपर्ट्स के पास आ रहे हैं और रिश्तों में जासूसी के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. बदलती लाइफ स्टाइल ने रिश्तों के मायने बदल दिए हैं. अब रिश्तों में न पहले जैसा समर्पण नज़र आता है और न विश्‍वास इसीलिए रिश्तों में जासूसी का ट्रेंड बढ़ रहा है.

– कमला बडोनी