महिला सुरक्षा पर रिपोर्ट: कौन-से राज्य सबसे सुरक्षित, कौन सबसे असुरक्षित? (Women Safety Report: Goa Safest, Delhi, Bihar Vulnerbale)

क्या आप जानते हैं कि महिलाओं की सुरक्षा के लिहाज़ से देश का कौन-सा राज्य कितना सुरक्षित और कौन सबसे असुरक्षित है? नहीं, तो हम आपको बताते हैं, ये रिपोर्ट. 1 नवंबर, 2017 को महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने प्लान इंडिया की वह रिपोर्ट सार्वजनिक की, जो उन्होंने महिलाओं की सुरक्षा पर सर्वे के आधार पर बनाई है, जिसमें महिलाओं की सुरक्षा के लिहाज़ से गोवा देश में अव्वल है और दिल्ली, बिहार सबसे बदतर. 

Women Safety Report india

गोवा सबसे सुरक्षित राज्य

रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है कि महिलाओं की सुरक्षा के लिहाज़ से गोवा देश में अव्वल है. इस बात का पता लगाने के लिए जेंडर वल्नरेबिलिटी इंडेक्स यानी जीवीआई का इस्तेमाल किया गया है. राज्यों को 0 से 1 के बीच में नंबर दिए गए यानी जो राज्य 1 नंबर के क़रीब है, वो सबसे सुरक्षित और जो 0 के क़रीब वो सबसे असुरक्षित. इस रिपोर्ट में गोवा का जीवीआई 0.656 है, जो देश के औसत जीवीआई 0.5314 से ज़्यादा है. लोगों की सुरक्षा के मामले में भी गोवा देश का नंबर 1 राज्य है. सुरक्षा के अलावा इसमें शिक्षा, स्वास्थ्य, जीविका कमाने और गरीबी के भी आंकड़े जारी किए गए. गोवा शिक्षा के मामले में पांचवे, स्वास्थ्य में छठे, जीविका कमाने में छठे और गरीबी के मामले में पांचवे नंबर पर है.

केरल दूसरे नंबर पर

महिलाओं की सुरक्षा के मामले में केरल दूसरे नंबर पर है. इसका जीवीआई 0.634 है. रिपोर्ट में इस बात पर भी ज़ोर दिया गया है कि केरल ने स्वास्थ्य के क्षेत्र में काफ़ी सुधार करके नई ऊंचाइयां छुई हैं. इसके बाद मिज़ोरम, सिक्किम और मणिपुर का नंबर आता है. यानी ग़ौर करें, तो पूर्वोत्तर भारत के ये राज्य राजधानी दिल्ली और मेट्रो शहरों के मुकाबले महिलाओं के लिए काफ़ी सुरक्षित हैं.

राजधानी दिल्ली महिलाओं के लिए असुरक्षित

देश की राजधानी दिल्ली महिलाओं के लिए बेहद असुरक्षित है. 30 राज्यों की इस रिपोर्ट में दिल्ली 28वें नंबर पर है यानी बिहार से स़िर्फ दो पायदान ऊपर. दिल्ली का जीवीआई स्कोर 0.436 है.

बिहार सबसे नीचे

बिहार का नंबर इस लिस्ट में सबसे नीचे है यानी बिहार देश में महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित राज्य है. इसका जीवीआई स्कोर 0.410 है. सुरक्षा के अलावा लड़कियों की शिक्षा व स्वास्थ्य के मामले में भी सबसे पीछे हैं. बिहार को सबसे नीचे रखने का कारण कम उम्र में लड़कियों की शादी और उनका मां बनना है. राज्य के आंकड़ों पर नज़र डालें, तो बिहार में 39 फ़ीसदी लड़कियों की शादी 18 साल से कम उम्र में कर दी जाती है, जिससे वो जल्द ही मां बन जाती हैं और मां और बच्चे दोनों का ही स्वास्थ्य बहुत कमज़ोर होता है. 15-19 साल की उम्र की 12.2 लड़कियां गर्भवती थीं या मां बन चुकी थीं.

इस लिस्ट में जहां झारखंड 27वें नंबर पर है, वहीं उत्तर प्रदेश 29वें नंबर पर. यानी देखा जाए, तो देश के किसी अन्य राज्यों के मुकाबले, बिहार, दिल्ली, उत्तर प्रदेश और झारखंड सबसे असुरक्षित हैं.

यह भी पढ़ें: आज़ाद भारत की आधी आबादी का सच

यह भी पढ़ें: विमेन सेफ्टीः ख़ुद करें अपनी सुरक्षा

[amazon_link asins=’B00YMY3PX4,B01N1IIOUC,B00IKPRLHM,B00JG534KS,B00PAPJ3HG’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’d3f04527-bfa4-11e7-8445-2fe6f0ff6388′]