हेल्दी रिश्ते के लिए 7 हेल्दी हैबिट्स (7 Healthy Habits For Healthy Relationship)

रिश्ते की अच्छी सेहत के लिए स़िर्फ प्यार, विश्‍वास, समर्पण और अंतरंगता ही काफ़ी नहीं, आपकी कुछ आदतें भी रिश्ते की सेहत सुधारने में कारगर साबित हो सकती हैं. यक़ीन नहीं होता, तो आज़माकर देख लीजिए. हेल्दी रिश्ते के लिए कौन-सी आदतें अपनाना है ज़रूरी? आइए, जानते हैं.

 

हेल्दी रिश्ते, हेल्दी हैबिट्स, Healthy Habits, For Healthy Relationship

आज के दौर में जब शादीशुदा रिश्ते चट मंगनी पट ब्याह वाली कहावत के इतर चट ब्याह पट डिवोर्स की राह पर चल पड़े हैं, ऐसे में रिश्तों की सलामती और मज़बूती के लिए सबसे ज़रूरी है कपल्स का एक साथ समय बिताना, मगर पति-पत्नी दोनों के वर्किंग होने की वजह से अधिकांश कपल्स के पास एक-दूसरे के लिए वीकेंड के अलावा और कभी समय ही नहीं रहता. ये समय की कमी रिश्तों की कड़ी को कमज़ोर बना रही है. ऐसे में ज़रूरी है कि कपल्स थोड़ी स्मार्टनेस दिखाकर एक-दूसरे के साथ ज़्यादा समय बिताने के अन्य विकल्प तलाशें. व़क्त के हिसाब से ख़ुद में थोड़ा बदलाव करके और कुछ आदतों को अपनाकर आप अपने रिश्ते की डोर को कमज़ोर होने से बचा सकते हैं.

ये भी पढें: ज़िद्दी पार्टनर को कैसे हैंडल करेंः जानें ईज़ी टिप्स

1. साथ करें सुबह की सैर

पूरे दिन तो आपको साथ रहने का समय नहीं मिलने वाला, तो क्यों न सुबह की शुरुआत साथ-साथ करें. माना सुबह उठने के बाद आपके पास ढेरों काम रहते हैं, लेकिन आप यदि सुबह थोड़ा जल्दी उठें और पार्टनर के साथ मॉर्निंग वॉक पर जाएं, तो सुबह की ताज़ी हवा में की गई कुछ देर की चहलक़दमी आपको पूरे दिन फ्रेश रखेगी. सुबह की सैर से जहां सेहत दुरुस्त रहेगी, वहीं मूड फ्रेश रहने से आप अपना काम भी मन लगाकर करेंगी और सुबह-सुबह पार्टनर के साथ बिताए ये कुछ पल आप दोनों को एक-दूसरे के क़रीब लाएंगे.

2. साथ खाना बनाने का है अपना मज़ा

वर्किंग कपल्स दिन में तो अपने-अपने काम में व्यस्त रहने के कारण साथ खाना नहीं खा पाते और रात में भी थके होने की वजह से अक्सर होटल में खा लेते हैं या फिर घर पर ही पार्सल मंगवा लेते हैं. आप ऐसी ग़लती न करें, क्योंकि घर का बना खाना न स़िर्फ सेहत, बल्कि आपके रिश्ते के लिए भी हेल्दी होता है. ऑफिस से आने के बाद दोनों पार्टनर यदि साथ मिलकर खाना बनाते हैं, तो इससे न स़िर्फ एक पार्टनर का बोझ हल्का हो जाता है, बल्कि खाने का स्वाद और रिश्ते की सेहत दोनों अच्छी हो जाती है. यक़ीन न हो, तो इस नुस्ख़े को आज़माकर देख लीजिए.

3. मिलकर करें प्लानिंग

बात चाहे हॉलिडे प्लान करने की हो, फायनांशियल प्लानिंग या फिर लक्ष्य तक पहुंचने के लिए ख़ुद में बदलाव लाने की, अकेले ये सब करने की बजाय इसमें हमसफ़र को भी शामिल करें. साथ मिलकर प्लानिंग करने से पार्टनर को भी अच्छा महसूस होगा कि आप उन्हें अहमियत देेते हैं और आप दोनों ज़्यादा व़क्त साथ बिता पाएंगे. छुट्टियों आदि की प्लानिंग साथ मिलकर करने से दोनों एक-दूसरे को अपने आइडियाज़ बता सकते हैं, जिससे छुट्टियां मज़ेदार बन सकती हैं.

4. न छुपाएं दिल की बात

यदि आप अपने रिश्ते में किसी बात को लेकर बहुत परेशान हैं या आपको किसी चीज़ की कमी महसूस हो रही है, तो बिना किसी झिझक के पार्टनर से इस बारे में बात करें. अपने रिश्ते की भलाई के लिए हमसफ़र से बात करने में कोई बुराई नहीं है. आपकी समस्या जानने के बाद ही तो वो उसे हल करने के बारे में सोचेंगे. यदि आप कहेंगे ही नहीं, तो पार्टनर को पता कैसे चलेगा. हां, एक बात का ध्यान रखें कि बात करने का ये मतलब कतई नहीं है कि आप हमेशा उनसे हर बात के लिए शिकायत करने लगें.

5. बेड पर साथ जाएं 

आपकी पत्नी रात में डिनर के बाद यदि किचन का काम समेटती रहती है और आप बेडरूम में आराम फरमाते हैं, तो अपनी ये आदत बदल लीजिए. यदि आप किचन में उनकी मदद नहीं कर रहे हैं, तो भी सोने की बजाय अपना कुछ और काम कर लीजिए और पत्नी का काम ख़त्म होने पर साथ ही बिस्तर पर जाएं. ऐसा करने पर उन्हें भी अच्छा लगेगा और आपके रिश्ते की ताज़गी भी बनी रहेगी.

 

 6. कमरे को रखें साफ़-सुथरा

क्या कभी आपने महसूस किया है कि किसी गंदी जगह जाने पर आपको बुरा महसूस होता है और ख़ूबसूरत, साफ़-सुथरी जगह/घर में आने पर आपको सुकून और ख़ुशी का अनुभव होता है. दरअसल, गंदा और अस्त-व्यस्त कमरा न स़िर्फ स्ट्रेस बढ़ाता है, बल्कि इससे निगेटिव एनर्जी निकलती है, जो सेहत और रिश्ते दोनों के लिए अच्छी नहीं है. इसके विपरीत यदि कमरा साफ़-सुथरा व व्यवस्थित है, तो इससे सकारात्मक ऊर्जा का संचार होगा और आपको मानसिक शांति मिलेगी. ज़ाहिर है, जब आप रिलैक्स और अच्छा महसूस करेंगे, तो पार्टनर के साथ रिश्ता भी बेहतर बनेगा.

 

7. मैं सही हूं, तुम ग़लत

अधिकांश लोगों की आदत होती है कि वो किसी भी क़ीमत पर झुकने को तैयार नहीं होते. कई बार ख़ुद को सही साबित करने के लिए वो पार्टनर की भावनाओं को ठेस पहुंचाने से भी पीछे नहीं हटते, मगर वो ये भूल जाते हैं कि भले ही बहस करके पार्टनर से जीत जाएं और ख़ुद को सही साबित कर दें, लेकिन असल में तो ये उनकी हार ही है, क्योंकि उन्होंने हमसफ़र का दिल तोड़ा. अतः बेहतर होगा कि कुछ चीज़ों को यूं ही छोड़ दिया जाए, बजाय उन्हें लेकर सही/ग़लत पर बहस करने के, क्योंकि रिश्ते में सही और ग़लत देखने की बजाय भावनाएं ज़्यादा अहमियत रखती हैं.

फैक्ट फाइल

– शिकागो यूनिवर्सिटी द्वारा किए एक अध्ययन के मुताबिक़, यदि एक पार्टनर बहुत ज़्यादा सकारात्मक है, तो ऐसे कपल्स के बीच टकराव अन्य कपल्स की अपेक्षा बहुत कम होता है.

– एक अन्य अध्ययन के अनुसार, ज़्यादातर कपल्स के बीच मनमुटाव व झगड़े की सबसे बड़ी वजह पैसा और संवादहीनता होती है.

– कई सर्वे में ये बात साबित हुई है कि जो कपल्स शादी के रिश्ते के साथ ही अपने दोस्तों के साथ रिश्ता निभाते हैं और अपनी हॉबी के लिए समय निकालते हैं, वो उन कपल्स से ज़्यादा ख़ुश रहते हैं जिनकी लाइफ स़िर्फ पार्टनर के इर्द-गिर्द ही घूमती है.

– अध्ययन बताते हैं कि अपनी ज़िंदगी में नई चीज़ें ट्राई करने वाले कपल्स दूसरे कपल्स से ज़्यादा ख़ुश रहते हैं.

ये भी पढें: बेहतर रिश्ते के लिए पति-पत्नी जानें एक-दूसरे के ये 5 हेल्थ फैक्ट्स