कविता- ख़रीद लाए… (Kavita- Kharid Laye…)

Kavita-Kharid Laye

 

प्यार भी खिलौने की तरह हो गया है शायद

एक टूटा नहीं कि दूसरा खरीद लाए

 

तुम्हें पाने की हसरत कुछ इस तरह बढ़ी

उम्र तो गिरवी रख दी ज़िंदगी ख़रीद लाए

 

चाहते बाज़ार में, हसरतों की दुनिया थी

दौलतों का क्या करते हम तो दिल ख़रीद लाए

 

बिक रहे थे ख़्वाब कई ज़िंदगी की क़ीमत पर

मुफ़्त मिल रहा था दर्द हम तो बस वही लाए

 

तस्वीर उम्मीद की दिखी आपकी निगाह में

हमने फ्रेम कर लिया और वो ख़रीद लाए

 

हमशक्ल तुमसा कोई आईने में कैद था

तुम तो मिले नहीं आईना ख़रीद लाए

 

वो मिले तो कह देना ज़िंदगी गुज़रती है

इश्क़ कोई सौदा नहीं जो हर कोई ख़रीद लाए…

Murli Manohar Shrivastav

मुरली मनोहर श्रीवास्तव

 

मेरी सहेली वेबसाइट पर मुरली मनोहर श्रीवास्तव की भेजी गई कविता को हमने अपने वेबसाइट में शामिल किया है. आप भी अपनी कविता, शायरी, गीत, ग़ज़ल, लेख, कहानियों को भेजकर अपनी लेखनी को नई पहचान दे सकते हैं…

यह भी पढ़े: Shayeri

 

Summary
कविता- ख़रीद लाए... (Kavita- Kharid Laye...) | Hindi Kavita | Poems in Hindi
Article Name
कविता- ख़रीद लाए... (Kavita- Kharid Laye...) | Hindi Kavita | Poems in Hindi
Description
मेरी सहेली वेबसाइट पर मुरली मनोहर श्रीवास्तव की भेजी गई कविता को हमने अपने वेबसाइट में शामिल किया है. आप भी अपनी कविता, शायरी, गीत, ग़ज़ल, लेख, कहानियों को भेजकर अपनी लेखनी को नई पहचान दे सकते हैं…..प्यार भी खिलौने की तरह हो गया है शायद एक टूटा नहीं कि दूसरा खरीद लाए..
Author
Publisher Name
Pioneer Book Company Pvt Ltd
Publisher Logo