काव्य- एक ख़्वाहिश (Kavya- Ek Khwahish)

Kavya, Ek Khwahish

उस दिन हम मिले

तो मिले कुछ इस तरह

जैसे मिलती है धूप छाया से

जैसे मोती से सीपी मिल जाए

जैसे सहरा में फूल खिल जाए

यादों के फूलों की ख़ुशबू

यही एहसास-सा दिलाती है

तू हो, तेरा ख़्याल हर पल हो

गर मुलाक़ात हो फिर कभी

तो ज़िंदगी मेरी मुकम्मल हो

 

  काव्य- एक ख़्वाहिश (Kavya- Ek Khwahish)

 

      दिनेश खन्ना

मेरी सहेली वेबसाइट पर दिनेश खन्ना की भेजी गई कविता को हमने अपने वेबसाइट में शामिल किया है. आप भी अपनी कविता, शायरी, गीत, ग़ज़ल, लेख, कहानियों को भेजकर अपनी लेखनी को नई पहचान दे सकते हैं…

 

यह भी पढ़े: Shayeri