फिल्म समीक्षा: कंगना रनौत का आग ...

फिल्म समीक्षा: कंगना रनौत का आग उगलता धाकड़पना दिखा ‘धाकड़’ में… (Movie Review: Dhaakad)

कंगना रनौत उन अभिनेत्रियों में से हैं जो हमेशा कुछ अलग और ख़ास करने की कोशिश करती हैं. फिर चाहे वह मणिकर्णिका- झांसी की रानी हो या थलाइवी- जयललिता पर आधारित बायोग्राफी… हर फिल्म में उन्होंने अपना दमखम दिखाया और ज़बरदस्त अभिनय लोगों के सामने पेश किया. वे अपनी हर फिल्म में ख़ूब मेहनत करती हैं और अपना शत-प्रतिशत देती हैं, फिर चाहे पंगा फिल्म हो या क्वीन. कंगना पहली ऐसी अभिनेत्री हैं, जिन्हें अपने उत्कृष्ट अभिनय के लिए चार राष्ट्रीय पुरस्कार मिल चुके हैं.


अब एक बार फिर एक अलग अंदाज़ में एजेंट अग्नि के रूप में ‘धाकड़’ में नज़र आ रही हैं. फिल्म में कंगना का एक्शन और स्टंट लाजवाब है. इसके लिए उन्होंने काफ़ी मेहनत भी की है. कंगना रनौत ऐसी एजेंट के रूप में दिखाई गई हैं, जो बच्चों की तस्करी करनेवाले गिरोह का भंडाफोड़ करने के लिए विदेश से भारत में आती हैं. रुद्रवीर जिसका क़िरदार अर्जुन रामपाल ने निभाया है, वह बाल तस्करी करते हैं, साथ में उनका कोयले का कारोबार चलता रहता है. उनका साथ देती है रोहिणी के रूप में एक्ट्रेस दिव्या दत्ता. दिव्या ने खलनायकी के रूप में एक अलग ही मिसाल पेश की है और वे अपने खतरनाक अंदाज़ अभिनय से प्रभावित करती हैं.

यह भी पढ़ें: शादी के बंधन में बंधीं ‘बेबी डॉल’ कनिका कपूर, सामने आईं फेरों, सिन्दूर की रस्म, वरमाला सहित शादी की तस्वीरें (‘Baby Doll’ Kanika Kapoor ties the knot beau Gautam Hathiramani, inside photos from wedding go viral)

बाल तस्करी में कंगना क मिशन में साथ देते हैं शारिब हाशमी पर वे एक दुर्घटना में मारे जाते हैं. तब उनकी बेटी जाहिरा जो रुद्रवीर के चुंगल में फंस जाती हैं को छुड़ाने के लिए कंगना आगे बढ़ती है. क्या कंगना शारिब की बेटी को छुड़ा पाती है.. रुद्रवीर को क़ानून के शिकंजे में ले पाती है.. अग्नि अपने मिशन में कामयाब होती है कि नहीं यह जानने के लिए तो फिल्मी देखनी पड़ेगी…
निर्देशक रजनीश घई ने फिल्म में एक्शन का बेहतरीन तरीक़े से इस्तेमाल किया है, लेकिन कहानी के मामले में कहीं ना कहीं कमी दिखाई देती है. कह सकते हैं कि एक्शन तो गज़ब का है. पहली बार भारतीय हिंदी सिनेमा में इस तरह एक्शन देखने को मिले हैं और इसके लिए विदेशी सिनेमैटोग्राफर तेतसुओ नगाता बधाई के पात्र हैं. संगीत ठीक-ठाक है. कलाकारों की बात की जाए, तो कंगना पूरी फिल्म में छाई हुई हैं.

इसके अलावा अर्जुन रामपाल, दिव्या दत्ता, शारिब हाशमी ने अपने भूमिकाओं के साथ न्याय किया है. शाश्वत चटर्जी बॉब विश्वास के क़िरदार से ही लोगों को पसंद आते रहे हैं. उनका यहां पर भी अलग अंदाज़ प्रभावित करता है.


विजुअल्स के मामले में फिल्म हॉलीवुड के फिल्मों को टक्कर देती है. फिल्म की थोड़ी एडिटिंग की जा सकती थी. रामेश्वर एस. भगत एडिटिंग में थोड़ा चूक गए, जिससे कई जगहों पर सीन्स का दोहराव देखने को मिलता है. धाकड़ के लोकेशन लाजवाब और विजुअल इफेक्ट्स बेमिसाल है.
सोहम रॉकस्टार एंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड, सोहेल मकलाई प्रोडक्शंस और एसाइलम फिल्म्स की धाकड़ बेहतरीन एक्शन थ्रिलर है, जिसके लिए आप थिएटर में इसका बख़ूबी लुत्फ़ उठा सकते हैं.

फिल्म- धाकड़
कलाकार- कंगना रनौत, अर्जुन रामपाल, दिव्या दत्ता, शाश्वत चटर्जी, शारिब हाशमी
निर्देशक- रजनीश घई
रेटिंग- 3 ***.

Photo Courtesy: Instagram

यह भी पढ़ें: अब हिंदी भाषा विवाद पर हुई अक्षय कुमार की एंट्री, बोले- हम एक हैं, चीजें बेहतर हो जाएंगी (Now Akshay Kumar Breaks Silence On Hindi National Language Debate, Says- We Are One, Things Will Change)

डाउनलोड करें हमारा मोबाइल एप्लीकेशन https://merisaheli1.page.link/pb5Z और रु. 999 में हमारे सब्सक्रिप्शन प्लान का लाभ उठाएं व पाएं रु. 2600 का फ्री गिफ्ट.

×