गीत- राह… (Poetry- Raah…)

गीत- राह… (Poetry- Raah…)

राह आसान हो जाएगी

सुनो

तुम ताउम्र

बस ऐसे ही

बने रहना

मैं भी वक़्त के साथ

न बदलने की

सौगन्ध लेता हूं

कठिन तो है

डगर जीवन की

जानता हूं

मगर

अगर

जज़्बातों में ऐसा हो सका

तो यह राह

आसान हो जाएगी…

– मुरली

यह भी पढ़े: Shayeri

Photo Courtesy: Freepik

×