मधुबाला की 96 साल की बहन को उसकी...

मधुबाला की 96 साल की बहन को उसकी बहू ने गहने-पैसे छीनकर न्यूज़ीलैंड में निकाला घर से बाहर, बेसहारा बिना पैसों के अकेले पहुंची मुंबई… परिवार ने बताया भयावह सच! (Shocking! Madhubala’s 96-Year-Old Sister Thrown Out From Her House In New Zealand By Her Daughter-In-Law,Deets Inside)

सिल्वर स्क्रीन की सबसे खूबसूरत एक्ट्रेस मानी जानेवाली मधुबाला का फ़ैन हममें से कौन नहीं है? मधुबाला को नाम और शौहरत तो खूब मिली थी लेकिन प्यार के लिए वो हमेशा तरसती ही रहीं. छोटी सी उम्र में बड़ी कामयाबी हासिल कर वो इस दुनिया को अलविदा कह गईं, और अब उनकी बड़ी बहन को 96साल की उम्र में भयावह घटना से गुजरना पड़ा.

न्यूज़ीलैंड में रह रही मधुबाला की बहन कनीज़ बलसारा को उनकी बहू समीना ने घर से बेघर कर दिया और अकेले ही बिना पैसों के मुंबई की फ़्लाइट में बैठा दिया. ई-टाइम्स की खबर के मुताबिक़ मधुबाला की भतीजी और कनीज़ की बेटी परवेज़ ने बताया कि उनको इस बात की जानकारी अपने चचेरे भाई से मिली न कि अपनी भाभी समीना से. परवेज़ बांद्रा में रहती हैं और उन्होंने पूरी घटना के बारे में बताया कि क़रीब १७-१८ साल पहले कनीज़ अपने पति संग न्यूज़ीलैंड गई थीं, क्योंकि कनीज़ का बेटा उन्हें वहां के गया था. परवेज़ ने कहा कि मेरा भाई फारूक मम्मी पापा को बहुत चाहता था. लेकिन भाभी उन्हें पसंद नहीं करती थीं. मेरा भाई वहां सुधार विभाग में काम करता था.

परवेज़ ने आगे बताया कि मेरी भाभी मेरे पेरेंट्स के लिए खाना भी नहि बनाती थीं और इसलिए मेरे भाई को होटेल से उनके लिए खाना लाना पड़ता था. यहां तक कि समीना की बेटी जिसकी शादी ऑस्ट्रेलिया में हुई है वो भी मेरी मां के साथ दुर्व्यवहार करती थी.

मधुबाला की छोटी बहन मधुर भूषण ने भी ई टाइम्स से बात की और कहा कि मुझे हैरानी है कि इस उम्र में मेरी बहन के साथ ऐसा सब हुआ और उसे ये झेलना पड़ा. यहां तक कि उसके गहने-पैसे भी छीन लिए.

परवेज़ ने कहा कि इतना ही नहीं मुंबई में फ़्लाइट लैंड होने के महज़ आठ घंटे पहले ये संदेश मिला और वो भी समीना ने सीधे तौर पर हमें नहीं दिया. परवेज़ ने बताया कि 29 जनवरी को उसकी चचेरी बहन का जब फ़ोन आया तब वो पालघर में थीं. इसलिए उनके पास समय कम था एयरपोर्ट पहुंचने का.

परवेज़ का कहना है कि मेरे भाई का निधन 8 जनवरी को हुआ और भाई को गए हुए वो महीना भी नहीं हुआ समीना ने ये सब कर दिया. भाई के जाने के बाद वो मां को और भी प्रताड़ित करने लगी थीं और कोविड के समय में उन्होंने इस उम्र में मां को बिना सहारे और बिना पैसे कि फ़्लाइट में बैठा दिया.

दरअसल परवेज़ को एयरपोर्ट अथॉरिटीज की तरफ से फोन आया था कि उसकी मां के पास उसके RTPCR टेस्ट के लिए पैसे नहीं. परवेज़ ने वो पैसे भरे और अपनी भूखी मां को वो लेकर आई.

परवेज़ पहले अपनी मां से मिलने ज़ाया करती थीं लेकिन हाल फ़िलहाल वो नहीं जा पाई थीं और रही बात भाभी को समझाने की तो परवेज़ ने कहा कि फ़ोन पर समझाया लेकिन वो कहां माननेवालों में से हैं!

×