प्रेरक कथा- लोटा भर पानी की क़ीम...

प्रेरक कथा- लोटा भर पानी की क़ीमत… (Short Story- Lota Bhar Pani Ki Keemat…)

सिकंदर ने पूरे आत्मविश्वास के साथ कहा, “एक लोटे पानी के लिए मैं उसे मुंहमांगी क़ीमत देने को तैयार हूं.”
“तब भी यदि वह पानी देने को तैयार न हुआ तो?” फ़क़ीर ने फिर पूछा.
“मैं उसे अपना आधा साम्राज्य दे दूंगा.”

यूनानी सम्राट सिकंदर ने अनेक राज्यों पर विजय पा ली थी और थक कर अब वह स्वदेश लौट रहा था. राह में उसकी मुलाक़ात एक पहुंचे हुए फ़क़ीर से हुई. बातचीत के दौरान सिकंदर उसके सामने अपने साम्राज्य की विस्तृत सीमाओं, नए जीते देशों की गिनती इत्यादि का बखान करने लगा.
फ़क़ीर ने बड़े ध्यान से सिकंदर की सब बातें सुनीं और फिर एक प्रश्न किया.

यह भी पढ़ें: अटेंशन पाने की चाहत आपको बना सकती है बीमार! (10 Signs Of Attention Seekers: How To Deal With Them)

प्रश्न था- “तुम किसी मरुस्थल में फंस जाते हो. प्यास के मारे बुरा हाल है, पर आसपास पानी की कोई उम्मीद नहीं. तभी सामने से एक व्यक्ति पानी का लोटा लिए आता दिखाई देता है. परन्तु वह पानी देने से इनकार कर देता है. तब तुम क्या करोगे?
सिकंदर ने पूरे आत्मविश्वास के साथ कहा, “एक लोटे पानी के लिए मैं उसे मुंहमांगी क़ीमत देने को तैयार हूं.”
“तब भी यदि वह पानी देने को तैयार न हुआ तो?” फ़क़ीर ने फिर पूछा.
“मैं उसे अपना आधा साम्राज्य दे दूंगा.”
“और तब भी वह न माना तो?” फ़क़ीर ने एक बार फिर प्रश्न किया.
“यहां तो जीवन-मरण का सवाल है. मैं उसे लोटा भर पानी के बदले अपना पूरा साम्राज्य भी दे दूंगा.”
फ़क़ीर हंसने लगा.
“तुम्हारे साम्राज्य की क़ीमत महज़ एक लोटा पानी है, इससे अधिक कुछ नहीं. यह बात कभी मत भूलना सम्राट.”


यह भी पढ़ें: दोराहे (क्रॉसरोड्स) पर खड़ी ज़िंदगी को कैसे आगे बढ़ाएं? (Are You At A Crossroads In Your Life? The Secret To Dealing With Crossroads In Life)

फ़क़ीर की बात सुन विश्व विजय का सपना देखने वाले सिकंदर महान निरुत्तर रह गए.

– उषा वधवा

अधिक कहानियां/शॉर्ट स्टोरीज़ के लिए यहां क्लिक करें – SHORT STORIES

Photo Courtesy: Freepik

डाउनलोड करें हमारा मोबाइल एप्लीकेशन https://merisaheli1.page.link/pb5Z और रु. 999 में हमारे सब्सक्रिप्शन प्लान का लाभ उठाएं व पाएं रु. 2600 का फ्री गिफ्ट.

×