नए बिज़नेस के लिए स्टार्ट अप प्लान (Start up Plan for New Business)

कहते हैं कुछ लोगों में पैदाइशी बिज़नेस के गुण होते हैं, तो कुछ लोगों को काफ़ी मेहनत-मश़क्क़त करनी पड़ती है, कुछ लोग कुछ ही सालों में बिज़नेस को बुलंदियों पर ले जाते हैं, तो कुछ सालों वही करते रहने पर भी कुछ ख़ास हासिल नहीं कर पाते. ऐसा इसलिए है, क्योंकि बिज़नेस करना एक कला है, जो बहुत कम लोगों को आती है, पर अगर आप चाहें, तो वो कला सीख भी सकते हैं. अपने बिज़नेस के लिए कैसा हो आपका स्टार्ट अप प्लान, आइए जानते हैं.

shutterstock_402756979स्टार्ट अप प्लान 

  • सबसे पहले तो इंडस्ट्री चुनें. आप जो भी बिज़नेस शुरू करना चाहते हैं, उसके बारे में ख़ूब अच्छे-से सोच-विचार कर लें.
  • एक बार जब आपने बिज़नेस इंडस्ट्री के बारे में सोच लिया है, तो उसके बारे में थोड़ा बिज़नेस के दृष्टिकोण से सोचना शुरू करें.
  • उस बिज़नेस के बारे में थोड़ी रिसर्च करें.
  • ऐसा माना जाता है कि आप जो भी बिज़नेस शुरू करना चाहते हैं, उसके बारे में न स़िर्फ आपको पूरी जानकारी होनी चाहिए, बल्कि आपको वह काम सीखना भी चाहिए.
  • अपने बिज़नेस प्लान को लिखें. यह बहुत ज़रूरी है, क्योंकि इसके ज़रिए आपको सभी चीज़ों के बारे में विस्तार से जानकारी मिलती है.
  • बिज़नेस प्लान में क्या करना है, कैसे करना है, कहां करना है, कितने समय के भीतर और कितनी दूर तक उसे विस्तार देना है आदि बातों को स्पष्ट लिखना होगा.
  • यह हमेशा ध्यान में रखें कि आप जो भी बिज़नेस शुरू करने जा रहे हैं, आपको कॉम्पटीशन देनेवाले पहले से मार्केट में मौजूद हैं. ऐसे में ख़ुद को स्थापित करने के लिए आपको उसी बिज़नेस को एक नए अंदाज़ में पेश करना होगा.
  • कोई भी बिज़नेस शुरू करने के लिए आपको उसे रजिस्टर करना होगा. अलग-अलग बिज़नेस के मुताबिक़ अलग-अलग क्लीयरेंस लेने की ज़रूरत पड़ती है, इसकी पूरी जानकारी हासिल कर लें.
  • कोई भी बिज़नेस शुरू करने से पहले उस क्षेत्र से जुड़े एक्सपर्ट्स और प्रोफेशनल्स से मदद लेने में संकोच न करें. उनकी जानकारी और अनुभव आपके काफ़ी काम आ सकता है.
  • बिज़नेस की शुरुआत से पहले आपको उस क्षेत्र के प्रोफेशनल ग्रुप या यूनियन आदि से जुड़ना होगा. ख़ुद को स्थापित करने में ये आपकी मदद करते हैं, साथ ही किसी प्रकार की समस्या आने पर आप अकेले नहीं रहते. आपका ग्रुप आपकी मदद के लिए हमेशा तैयार रहता है.
  • आज के हाईटेक ज़माने में जब तक कोई बिज़नेस ऑनलाइन न दिखे, उसकी डिमांड उतनी नहीं बढ़ती. भले ही आपका बिज़नेस छोटा हो या बड़ा, उसकी वेबसाइट और सोशल पेज ज़रूर बनाएं.
  • अपडेटेड रहकर आप अपने बिज़नेस को औरों से बेहतर प्लेटफॉर्म दे सकते हैं.
  • बिज़नेस से जुड़े सभी टैक्स, रेवेन्यू आदि की जानकारी इकट्ठा कर लें और समय-समय पर सभी टैक्सेस भरते रहें.

shutterstock_383408797

एडवर्टाइज़िंग और मार्केटिंग

किसी भी बिज़नेस के लिए पूंजी लगाना जितना ज़रूरी है, उतना ही ज़रूरी है, उस पूंजी को लाभ में बदलकर फ़ायदा पाना. इसके लिए विज्ञापन और मार्केटिंग बहुत ज़रूरी है.

  • बिज़नेस की शुरुआत हमेशा बड़ी होनी चाहिए. अपने प्रोडक्ट या सर्विस को लॉन्च करते समय उसका इस प्रकार प्रचार करें कि ग्राहकों के मन में उसके लिए उत्सुकता जगे.
  • नए बिज़नेस की शुरुआत में बंपर ओपनिंग धमाका ऑफर जैसी चीज़ें काफ़ी फ़ायदेमंद साबित होती हैं.
  • सबसे पहले अपने बिज़नेस के लिए टारगेट कस्टमर्स की लिस्ट बनाएं.
  • उनकी एज ग्रुप व लोकैलिटी कोे ध्यान में रखकर अपना ऑफर प्लान डिसाइड करें.
  • कस्टमर्स तक पहुंचने के लिए सोशल नेटवर्किंग साइट्स का फ़ायदा उठाएं.

स्टार्ट अप इंडिया एक्शन प्लान

देश को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मज़बूत बनाने के लिए भारत सरकार स्टार्ट अप इंडिया एक्शन प्लान लेकर आई है. इसके ज़रिए बिज़नेस बढ़ानेवालों को काफ़ी सहूलियतें दी जाएंगी, ताकि भारत की आर्थिक स्थिति को सुदृढ़ बनाने में सभी अपना सहयोग दे सकें. इस प्लान की कुछ ख़ूबियां इस तरह हैं-

  • तीन साल तक आपके बिज़नेस मुना़फे पर कोई इन्कम टैक्स नहीं होगा.
  • तीन साल तक आपके बिज़नेस का कोई इंस्पेक्शन भी नहीं होगा.
  • अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनानेवालों को 10 करोड़ रुपयों की मदद मिलेगी.
  • अगर आप चाहें, तो 90 दिनों के भीतर स्टार्ट अप से बाहर निकल सकते हैं.
  • स्टार्ट अप हब बनाया जाएगा, ताकि लोग एक-दूसरे से अपने आइडियाज़ एक्सचेंज़ कर सकें और फंडिंग में भी मदद मिल सके.
  • सरकार की तरफ़ से लोन की सुविधा मिलेगी.
  • महिला उद्यमियों के लिए नई योजनाएं बनाई जाएंगी.
                                                                                                                                                                                                           – सुनीता सिंह