इन्वेस्टमेंट से जुड़ी 10 ग़लतियां

shutterstock_81745657

घर चलाने के साथ ही परिवार के भविष्य को सुरक्षित रखने के लिए महिलाएं हर तरह की फायनांशियल प्लानिंग कर रही हैं. कौन-सा इन्वेस्टमेंट सही और कितना फ़ायदेमंद है? इस बात की पूरी जानकारी भी रखती हैं, लेकिन कई बार पैसे इन्वेस्ट करते समय वो कुछ ग़लतियां कर जाती हैं.

प्लानिंग की कमी:

बिना प्लानिंग के कहीं भी इन्वेस्ट करना भविष्य में आपके लिए परेशानी खड़ी कर सकता है. उदाहरण के लिए, हर महीने घर में आने वाली इनकम और ख़र्च का सही तालमेल न करने पर आपका बजट बिगड़ सकता है, जिसका असर वर्तमान के साथ ही आपके भविष्य पर भी पड़ सकता है. बच्चे की आगे की पढ़ाई के लिए अभी से आपको इन्वेस्ट करना होगा, वरना सही समय आने पर निराशा हाथ लग सकती है.

रिसर्च की कमी:

भविष्य को सुरक्षित करने के लिए कई बार दूसरों की बातों पर विश्‍वास करके निवेश करना भी बड़ी ग़लती है. प्रोफेशनल से सलाह लेना सही है, लेकिन ख़ुद भी थोड़ी जांच-पड़ताल ज़रूर करें. आपके घर के ख़र्च और इनकम को आपसे बेहतर कोई और नहीं जानता. इंटरनेट के माध्यम से भी आप कई तरह की वेबसाइट के ज़रिए बेहतर इन्वेस्टमेंट के बारे में जानकारी इकट्ठा कर सकती हैं.

ट्रेंड के पीछे भागना:

जो ट्रेंड चल रहा है, ज़रूरी नहीं कि आपके लिए वो सही हो. बच्चे की पढ़ाई के लिए लिया गया लोन, हाउस लोन, घर के दूसरे ख़र्च आदि पर ही आपका इन्वेस्टमेंट निर्भर करता है. ट्रेंड के पीछे भागने की बजाय अपनी सही फायनांशियल पोजीशन जानने के बाद ही इन्वेस्ट करें.

सही समय से अनजान:

कई बार ऐसा होता है जब बिना सोचे-समझे महिलाएं इन्वेस्ट तो कर देती हैं, लेकिन जब समय पर रिटर्न नहीं मिलता, तो परेशान हो जाती हैं. आपको कितने समय के लिए इन्वेस्ट करना है और पैसे की ज़रूरत कब है? ये जानने के बाद ही पैसे इन्वेस्ट करें. उदाहरण के लिए, अगर आपको लंबे समय के लिए इन्वेस्टमेंट करना है, तो इंश्योरेंस, फिक्स डिपॉज़िट, पीपीएफ आदि में इन्वेस्ट कर सकती हैं. इन्वेस्टमेंट करते समय टाइम फ्रेम का विशेष ध्यान दें और उसी के अनुसार इन्वेस्ट करें.

विविधता की कमी:

कई बार ऐसा देखा गया है कि महिलाएं बिना मार्केट की जांच-पड़ताल किए हर बार किसी एक ही चीज़ में इन्वेस्ट करती रहती हैं. आप भी अगर इसी प्रक्रिया को अपनाती हैं, तो ये आपके लिए नुक़सानदायक हो सकता है. उदाहरण के लिए, हर बार स़िर्फ म्युचुअल फंड या इस तरह के किसी और प्लान में इन्वेस्ट करना सही नहीं. अलग-अलग तरह के इन्वेस्टमेंट करें. पीपीएफ, इंश्योरेंस, एफडी आदि भी इन्वेस्टमेंट के अच्छे विकल्प हैं.

पेपर वर्क की कमी:

घर के कामों की लिस्ट और खाने में किसको क्या पसंद है, इसके साथ ही इन्वेस्टमेंट की सारी जानकारी और उससे जुड़े काग़ज़ात आपको पता होने चाहिए. स़िर्फ इन्वेस्ट करने भर से आपका काम पूरा नहीं हो जाता, कौन-सा इन्वेस्टमेंट कब पूरा हो रहा है और किस तारीख़ को आपको उसका फ़ायदा मिलेगा? आदि बातें भी आपको पता होनी चाहिए.

बुरे व़क्त से अनजान:

जीवन में कभी भी कुछ भी हो सकता है. किस मोड़ पर आपके साथ कोई दुर्घटना हो जाए और घर में आने वाली मंथली इनकम बंद हो जाए, कहा नहीं जा सकता. अतः निवेश करते समय इस बात का विशेष ध्यान रखें. सारे इन्वेस्टमेंट लॉन्ग टर्म के लिए न करें. कुछ ऐसे भी होने चाहिए जो कुछ समय के बाद हर महीने आपको थोड़ा फ़ायदा पहुंचाते रहें.

फॉलोअप न करना:

इन्वेस्टमेंट करके भूल जाना भी एक बड़ी ग़लती है. उदाहरण के लिए, अगर आपने किसी ब्रोकर के ज़रिए पैसे इन्वेस्ट किए हैं, तो ये मत सोचिए कि जब समय पूरा होगा तो वो ख़ुद आपको बता देगा और आपको इसका फ़ायदा भी मिलेगा. इन्वेस्टमेंट के बाद इससे जुड़ी हर जानकारी व सवाल अपने ब्रोकर से करती रहें. साथ ही मार्केट में आपके इन्वेस्टमेंट से जुड़ी कोई ख़बर आती है, तो भी बेझिझक पूछती रहें. आपका प्लान कब मेच्यौर हो रहा है और मेच्यौरिटी के कितने दिन बाद और कितने टुकड़ों में आपको पैसे मिलेंगे आदि की जानकारी ज़रूर रखें.

ग़लत समय पर प्लान तोड़ना:

इन्वेस्टमेंट की तय समय सीमा से पहले ही प्लान तोड़कर बीच में पैसे निकालने की बुरी आदत बहुत से लोगों को होती है. ऐसा करने से इन्वेस्टमेंट का पूरा फ़ायदा नहीं मिल पाता. इसी तरह मार्केट ख़राब होने पर अपने शेयर बेचने की ग़लती भी नुक़सानदायक होती है. थोड़े से पैसों की ख़ातिर कई लोग ऐसी ग़लतियां करते हैं.

देर से शुरुआत:

अक्सर देखा गया है कि इन्वेस्टमेंट को लेकर महिलाएं हमेशा से बैकफुट पर रही हैं. वो घर में पैसा रखना तो पसंद करती हैं, लेकिन जैसे ही इन्वेस्टमेंट की बात आती है, तो अभी नहीं, अभी तो बहुत समय है, मार्केट ठीक नहीं है, पैसा नहीं है या अगले साल-अगले साल कहकर टालती रहती हैं. इस तरह की ग़लती आप न करें. जितनी जल्दी इन्वेस्ट करना शुरू करेंगी उसका फ़ायदा भी आपको ज़्यादा मिलेगा. देर से शुरुआत करने की आदत छोड़ दें.

[amazon_link asins=’B01HHXDC1G,B01GEBG23W,B0743BZPF7′ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’dbe018f4-b8a9-11e7-b34e-fb807d712dc4′]