अलविदा लता मंगेशकर: जन्म के समय ...

अलविदा लता मंगेशकर: जन्म के समय हेमा था लता जी का नाम, जानें कैसे बनीं लता मंगेशकर(Tribute to Lata Mangeshkar: Lata Mangeshkar’s Real Name Was Hema, Know How did She became Lata Mangeshkar)

रविवार की सुबह सिनेमा जगत ही नहीं, पूरे देश दुनिया के लिए एक बेहद दुखी कर देने वाली खबर लेकर आई. लगभग एक महीने से स्वास्थ्य समस्याओं से जूझ रहीं महान गायिका लता मंगेशकर का रविवार की सुबह 92 वर्ष की आयु में निधन हो गया. फिल्मों में ही नहीं, पूरी दुनिया में अपनी आवाज़ का जादू चलानेवाली स्वर कोकिला की आवाज़ हमेशा के लिए मौन हो गई. लता मंगेशकर के निधन की खबर से मनोरंजन जगत में सन्नाटा पसर गया है. हर भारतीय स्तब्ध है, हर किसी की आंखों में आंसू है. पूरा देश आज अपनी लता दीदी की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना कर रहा है.

लता मंगेशकर पिछले कई सालों से म्यूजिक इंडस्ट्री पर राज कर रही थीं. उनके लाखों-करोड़ों चाहनेवाले हैं, पर आज भी उनसे जुड़ी कई बातें हैं, जो लोगों को पता नहीं है. उनके निधन के बाद से ही उनसे जुड़े कई किस्से हैं, जो सोशल पर वायरल हो रहे हैं. ऐसा ही एक किस्सा उनके नाम से जुड़ा है, जिसके बारे में बहुत लोग नहीं जानते.

लता मंगेशकर का नाम बचपन में लता नहीं था, उनका असली नाम और उनके नाम से जुड़ी कहानी शायद आपको भी पता नहीं होगी. दरअसल उनके नाम से जुड़ा किस्सा बेहद दिलचस्प है.

लता मंगेशकर के पिता का नाम पंडित दीनानाथ मंगेशकर था. उनके पिता मराठी थियेटर के मशहूर एक्टर और नाट्य संगीत म्युजिशियन थे. जब लता जी का जन्म हुआ तो उनकी मां ने प्यार से उनका नाम हेमा रखा था… हेमा मंगेशकर. लेकिन उनके पिता ने एक नाटक के किरदार के नाम से प्रभावित होकर अपनी बेटी का नाम बदल दिया और लता रख दिया.

दरअसल लता मंगेशकर के पिता दीनानाथ मंगेशकर ने एक बार ‘भावबंधन’ नाटक में काम किया. इस नाटक में एक फीमेल कैरेक्टर थी, जिसका नाम ‘लतिका’ था. लता जी के पिता को ये नाम इतना पसंद आया कि उन्होंने अपनी बेटी हेमा का नाम भी यही रखने का फैसला कर लिया. घर पहुंचकर उन्होंने हेमा का नाम बदलकर ‘लता’ रख दिया. और आज इसी छोटी ‘हेमा’ को पूरी दुनिया ‘लता मंगेशकर’ के नाम से जानती है.

लता मंगेशकर जी अपने माता-पिता की पहली संतान थीं. उनके बाद मीना, आशा भोसले, उषा और इकलौते भाई हृदयनाथ का जन्म हुआ. बताया जाता है कि लता मंगेशकर ने पांच साल की उम्र तक अपने पिता के सामने गाना नहीं गाया था. एक दिन अचानक उनके पिता ने लता को गुनगुनाते सुना तो हैरान रह गए. उन्होंने उसी दिन तय कर लिया था कि वो लता को गाना सिखाएंगे.

महान गायिका लता मंगेशकर के निधन से देशभर में गम का माहौल है. केंद्र सरकार ने 6 व 7 फरवरी को राष्ट्रीय शोक घोषित किया है. लेटेस्ट अपडेट के अनुसार लता मंगेशकर का पार्थिव शरीर उनके मुम्बई स्थित पेडर रोड स्थित निवास ‘प्रभुकुंज’ लाया जा चुका है. आज शाम पूरे राजकीय सम्मान के साथ लता जी का अंतिम संस्कार शिवाजी पार्क में किया जाएगा. लता जी को अंतिम विदाई देने के लिए पीएम मोदी भी शाम 6.30 बजे शिवाजी पार्क पहुंचेंगे.

×