सामान्य दर्द से लेकर कैंसर, हृदय...

सामान्य दर्द से लेकर कैंसर, हृदय रोग, डायबिटीज़ जैसी बीमारियों में भी फ़ायदेमंद है अदरक… (11 Health Benefits of Ginger)


अदरक गुणों से भरपूर बेहतरीन दर्दनाशक है. खांसी, ज़ुकाम, बुखार और सिरदर्द में इसके सेवन से तुरंत आराम मिलता है. प्रेग्नेंसी के समय होनेवाली मॉर्निंग सिकनेस को दूर करने में भी प्रभावशाली है. सौ से अधिक बीमारियों में इस चमत्कारी मसाले के औषधीय लाभों पर अनगिनत अध्ययन किए गए हैं. एक शोध के अनुसार, अदरक में उपलब्ध तत्व ओवेरियन कैंसर के सेल को ख़त्म करते हैं. आधे से अधिक पारंपरिक हर्बल औषधियों में भी इसे शामिल किया जाता है. अदरक लूज मोशन के दौरान होनेवाले नोजिया में भी उपयोगी है. अदरक भूख जगाने के साथ कब्ज़ की समस्या को भी दूर करता है. आयुर्वेद में अदरक को जोड़ों के दर्द के उपचार में इस्तेमाल किया जाता है. इसमें जिंजरोल नामक असरदार पदार्थ होते हैं, जो जोड़ों व मांसपेशियों के दर्द को कम करते हैं. अदरक में मौजूद फीनॉल्स और फ्लेवेनॉइड्स दिमाग़ को दुरुस्त रखने में सहायता करते हैं. अदरक का रस मस्तिष्क में प्रोटीन और अन्य ज़रूरी तत्वों के स्तर को बढ़ा देता है, जो दिमाग़ को स्वस्थ्य रखते हैं.


घरेलू नुस्ख़े

  • भोजन से पहले अदरक के टुकड़े पर नमक छिड़ककर खाने से अधिक लार बनता है, जो पाचन क्रिया में मदद करने के साथ पेट की समस्याओं से बचाव करता है.


  • कोल्ड, फ्लू जैसी बीमारियों में फ़ायदेमंद होने के साथ अदरक लूज मोशन व फूड पॉइजनिंग जैसी बीमारियों के लिए भी उपयोगी है. इसका नियमित सेवन करने से पाचन प्रणाली बेहतर होती है.


  • माहवारी के दौरान पेट में होनेवाले दर्द में अदरक के रस में ब्राउन शुगर मिलाकर पीने से राहत मिलती है.


  • डायबिटीज़ के मरीज़ यदि हर रोज़ अदरक का सेवन करते हैं, तो किडनी के नुक़सान की आशंका बेहद कम हो जाती है.


  • भारी भोजन के बाद अदरक की चाय पीने से भी पेट फूलने और उदर वायु को कम करने में मदद मिलती है. अदरक की चाय बनाने के लिए उबलते पानी में अदरक के टुकड़े, कुछ तुलसी पत्ते व सूखी धनिया के बीजों को कूटकर डालें. कुछ देर उबलने दें. फिर छानकर स्वाद के लिए नीबू का रस व गुड़ मिलाकर गरम-गरम पीएं.

  • यह भी पढ़ें: अजवाइन का पानी वज़न घटाने के साथ शरीर को रखता है फिट और हेल्दी (Ajwain Water For Weight Loss And Other Health Benefits)
  • यदि पेट की समस्याएं अधिक परेशान कर रही हैं, तो आप फूड प्वायजनिंग के लक्षणों को दूर करने के लिए भी अदरक का सेवन कर सकते हैं.


  • त्वचा को ख़ूबसूरत और आकर्षक बनाने के लिए रोज़ सुबह-सुबह खाली पेट अदरक का एक छोटा टुकड़ा गुनगुने पानी के साथ लें. इससे त्वचा निखर उठेगी.


  • कब्ज़ की समस्या होने पर अजवाइन, अदरक, नींबू के रस में चुटकीभर नमक मिलाकर सेवन करने से लाभ होता है.


  • रोज एक कप अदरक का जूस पीने से आपका दिल जवां बना रहेगा और हार्ट अटैक, हाइपरटेंशन और हार्ट फैलियर जैसी बीमारियां नहीं होंगी. अदरक का जूस बनाने के लिए अदरक को धोकर छीलकर छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें. थोड़ा पानी डालकर पीस लें. फिर कपड़े से छानकर इसका रस निकाल लें. स्वाद के लिए इसमें आधा नींबू निचोड़कर कुछ बूंद शहद की मिला लें.


  • यदि आपको भूख न लगती हो, तो अदरक को बारीक़ काटकर उसमें थोड़ा-सा नमक मिला लें. इसे हर रोज़ हफ़्तेभर तक थोड़ा-थोड़ा खाएं. इससे पेट भी साफ़ होगा और भूख भी लगेगी.





    रिसर्च



    मिनेस्टा यूनिवर्सिटी में हुए रिसर्च के अनुसार, अदरक कोलोरेक्टल कैंसर के ख़तरे को काफ़ी हद तक कम करता है. यह शुगर से होनेवाली जटिलताओं से बचाव करती है और मधुमेह पीड़ित के लिवर व किडनी को सुरक्षित करती है. एक अन्य अध्ययन के अनुसार, अदरक गंभीर व स्थायी इंफ्लामेटरी बीमारी के लिए एक असरकारी उपचार है. हांगकांग में हुए एक रिसर्च के अनुसार, अदरक और संतरे के तेल से मालिश करने पर घुटने की समस्याओंवाले मरीज़ों में होनेवाली जकड़न व दर्द में राहत मिलती है.

    दिलचस्प तथ्य
    पांचवीं सदी में चीनी नाविक लंबी दूरी की समुद्री यात्रा में स्कर्वी के इलाज के लिए अदरक में मौजूद विटामिन सी तत्वों का इस्तेमाल करते थे.
  • सुपर टिप
  • अदरक का नियमित सेवन करते रहने से माइग्रेन की समस्या दूर होती है.


यह भी पढ़ें: बेहतरीन पावर ड्रिंक होने के साथ-साथ इम्यून सिस्टम को भी बूस्ट करता है गिलोय… (18 Health Benefits of Giloy- The Ultimate Immunity Booster…)


  • Photo Courtesy: Freepik











     





     













     



     



















     









     





     





     



     







     



     





     



     

















     

















     
















    ­




×