7 तरह के सेक्सुअल पार्टनरः जानें आप कैसे पार्टनर हैं (7 Types Of Sexual Partner: What type of partner are you?)

सेक्सोलॉजिस्ट का मानना है कि सेक्स को लेकर हर पार्टनर की एक-दूसरे से अलग-अलग उम्मीदें होती हैं, इसलिए जब भी पार्टनर्स सेक्सुअल रिलेशनशिप बनाते हैं, तो उनका व्यवहार और प्रतिक्रिया भी अलग-अलग ही होती है. तो आइए जानते हैं आप और आपके पार्टनर की सेक्सुअल कॉम्पैटिबिलिटी कैसी है?

romance-27a
1. रोमांटिक पार्टनर

ऐसे कपल सेक्स के दौरान बहुत मस्ती करते हैं. पार्टनर को उत्तेजित करने के लिए अनेक चीज़ों और आइडियाज़ का इस्तेमाल करते हैं, साथ ही अपने पार्टनर से भी ऐसी ही उम्मीद रखते हैं कि वह भी उसके साथ ऐसा व्यवहार करे, ऐसी ही ट्रिक्स यूज़ करे. ये कपल रिलेशनशिप के दौरान ऐसी सेक्सुअल फैंटसी से प्रेरित होते हैं, जो उन्होंने कहीं देखी या पढ़ी होती है. सेक्स एक्सपर्ट्स का मानना है कि इस तरह की सेक्सुअल फैंटसी सेक्सुअल ऐक्ट को मज़ेदार बनाती है. ऐसे पार्टनर्स को ङ्गथ्रिलिंग पार्टनर्सफ कहते हैं. उनकी ऐसी एक्टिविटीज़ यह दर्शाती है कि ये पार्टनर कभी ऐसे सेक्सुअल ऐक्ट से बोर नहीं होते हैं.

2. उदासीन पार्टनर

कुछ कपल्स में काम के बढ़ते बोझ, बीमारी, पारिवारिक उलझनों व परेशानियों, आपसी रिश्तों में तनाव के कारण सेक्स के प्रति रुचि कम होने लगती है. सेक्सोलॉजिस्ट का मानना है कि कई बार तो चीज़ों के बदलने और स्थितियों में सुधार होने के बाद भी पार्टनर्स सेक्स के प्रति उदासीन रहते हैं. जो पार्टनर्स सेक्स के प्रति उदासीन रहते हैं, वे यौन क्षमताओं के प्रति अपना आत्मविश्‍वास खो देते हैं और फिर दूसरे पार्टनर की भावनाओं व इच्छाओं को समझने की कोशिश नहीं करते. ऐसे उदासीन पार्टनर्स अपनी सेक्स डिज़ायर्स को भी छुपाने का प्रयास करते हैं. उन्हें लगता है कि रिश्ते में सेक्स की बजाय अन्य चीज़ें ज़्यादा महत्वपूर्ण हैं.

ये भी पढें: सेक्सुअल हेल्थ के 30+ घरेलू नुस्खे

यदि दूसरा पार्टनर सेक्स के लिए पहल भी करता है, तो वे उसे अनदेखा करने लगते हैं. पार्टनर के आग्रह करने पर वे उसे सपोर्ट तो करते हैं, लेकिन सेक्स में पहल कभी नहीं करते. उदासीन पार्टनर की यह ख़ासियत होती है कि वह सेक्स में दिलचस्पी नहीं दिखाते, लेकिन यदि दूसरा पार्टनर उसे एक्साइट करता है, तो ख़ुद को संतुष्ट करने में कमी नहीं छोड़ते.

3. भावनात्मक रूप से जुड़े पार्टनर

ऐसे कपल्स सेक्स के दौरान भावनात्मक रूप से एक-दूसरे से जुड़ने में विश्‍वास रखते हैं. उनके लिए फिज़िकल एक्टिविटी सेकंडरी होती है. ऐसे कपल्स को ङ्गसेन्शुअस कपलफ कहते हैं. इन कपल्स के लिए सेक्स एक तरीक़ा है अपने पार्टनर के साथ रिलेशनशिप विकसित करने का. ऐसे कपल कभी भी अपने पार्टनर पर सेक्सुअल रिलेशन के लिए दबाव नहीं डालते, बल्कि मान-मनुहार से पार्टनर को सेक्स के लिए तैयार कर लेते हैं. ऐसे लवर्स मिलनसार क़िस्म के होते हैं, जो अपने पार्टनर की भावनाओं और इच्छाओं का पूरा ध्यान रखते हैं. रिलेशनशिप बनाते समय इनमें इमोशनल इन्वॉल्वमेंट अधिक होती है और फिज़िकल प्रेज़ेंस को कम महत्व देते हैं.
एक-दूसरे से दूर होने पर वे कभी अंतरंग होने का प्रयास नहीं करते.

4. अधिक भरोसेमंद पार्टनर

इस तरह के पार्टनर लाइफ को ख़ुशनुमा बनाने के लिए रोमांस करते हैं, ताकि रोज़मर्रा की ज़िंदगी में होनेवाले तनाव को कम किया जा सके. ऐसे पार्टनर अपनी सेक्स लाइफ को बेहतर बनाने के लिए नियमित रूप से योग,
एक्सरसाइज़ और मेडिटेशन करते हैं. सेक्सोलॉजिस्ट के अनुसार, ऐसे पार्टनर के लिए सेक्स ङ्गस्टे्रस रिलीवरफ का काम करता है, क्योंकि उन्हें लगता है कि सेक्स ही एक ऐसा तरीक़ा है, जो उनके तनाव को कम कर सकता है. कई बार ऐसे पार्टनर सेक्स में संतुष्टि न मिलने पर अपना आपा खो बैठते हैं.

5. सेक्स एडिक्टेड पार्टनर

ऐसे पार्टनर सेक्स एन्जॉय करने का कोई अवसर नहीं छोड़ते और न ही रिलेशनशिप बनाने के लिए एक-दूसरे की स्वीकृति लेते हैं. वे इस बात की परवाह नहीं करते हैं कि उनका पार्टनर रिलेशनशिप बनाने के मूड में है या नहीं, उसकी तबीयत ठीक है या नहीं. ऐसे पार्टनर के लिए केवल सेक्स है. सेक्स एक्सपर्ट्स का मानना है कि सेक्स के लिए इंकार करने पर सेक्स एडिक्ट लोग अपने पार्टनर को कभी भी धोखा दे सकते हैं. ऐसे सेक्स एडिक्ट लोगों के मल्टीपल पार्टनर्स होते हैं.

ये भी पढें: महिलाओं के इन 6 सिग्नल्स से जानें क्या चाहती है वो?

6. कामुक पार्टनर

ये कपल कामुक प्रवृति के होते हैं. उनमें सेक्स के प्रति इच्छा बहुत तीव्र होती है. उनके रिश्तों में हमेशा गर्माहट बनी रहती है. सेक्सोलॉजिस्ट का मानना है कि सेक्स इनके रिश्ते का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा होता है. इसी वजह से कई बार ये कपल रिलेशनशिप के दौरान एग्रेसिव भी हो जाते हैं.

7. स्वार्थी पार्टनर

ऐसे पार्टनर स्वार्थी क़िस्म के होते हैं, जो सेक्सुअल रिलेशनशिप बनाते समय स़िर्फ अपनी आत्मसंतुष्टि के बारे में सोचते हैं. उनको लगता है कि वे बेडरूम में अपने पार्टनर के साथ जो चाहें वो कर सकते हैं. हर एक्टिविटी को वे अपने पर्सनल तरी़के से करना चाहते हैं, चाहे उसके लिए दूसरा पार्टनर तैयार हो या न हो. सेक्स के दौरान वे केवल अपने पर्सनल प्लेज़र (निज़ी ख़ुशी) के बारे में सोचते हैं. अपने पार्टनर की इच्छाओं व ख़ुशी को महत्व देने की बज़ाय अपनी इच्छाओं को अधिक महत्व देते हैं. उसके साथ किसी तरह का समझौता करने के लिए तैयार नहीं होते. अपनी सेक्सुअल डिज़ायर पूरी न होने पर कई बार ग़ुस्सा और उग्र भी हो जाते हैं.

– पूनम कोठारी

ये भी पढें: पति की इन 7 आदतों से जानें कितना प्यार करते हैं वो आपको