9 साल की शादी को आख़िर क्यो...

9 साल की शादी को आख़िर क्यों ख़त्म कर दिया था जूही परमार और सचिन श्रॉफ ने? (Breakup Story: Juhi Parmar And Sachin Shroff)

कुमकुम की लीड अदाकारा जूही और कृष्ण के रोल से मशहूर हुए सचिन, दोनों ही बेहद प्यारे और ऐसा लगता था मानो एक दूसरे के लिए ही बने हों. कुमकुम सीरियल के बाद जूही परमार हर घर की प्यारी और फेवरेट बहू बन चुकी थीं, वहीं बिग बॉस  5 की विजेता बनकर उन्होंने अपनी इस पॉप्यूलैरिटी को साबित भी कर दिया था.

सचिन और जूही सेट पर ही मिले थे और मात्र पाँच महीनो की डेटिंग के बाद ही दोनों ने शादी का फ़ैसला ले लिया था. साल 2009 में दोनों शादी के बंधन में बंधे और साल 2013 ममें जूही ने प्यारी सी बेटी को जन्म दिया. इतना सब होने केबाद भी आख़िर क्यों दोनों का रिश्ता इस मुक़ाम तक पहुंच गया को तलाक़ जैसा फ़ैसला लेना पड़ा.

Juhi Parmar And Sachin Shroff

पहले तो दोनों ने ही ज़्यादा कुछ नहीं कहा अपने रिश्ते के टूटने पर. जूही ने कहा था कि सचिन को भूलने की आदत है, वहींसचिन ने जूही को ग़ुस्सैल बताया था. लेकिन एक इंटरव्यू में जब सचिन ने यह कह डाला कि मैं बिना प्यारवाली शादी मेंथा. मैं जूही से प्यार करता था पर जूही की तरफ़ से ऐसा कुछ नहीं था… उसके बाद जूही भी चुप नहीं रही और उन्होंने एकओपन लेटर के ज़रिए अपने दिल का ग़ुबार निकाल दिया था. 

जूही ने कहा कि मैं सदमे में हूँ कि तुमने सारा इल्ज़ाम मुझ पे डाल दिया. मुझे समझ में नहीं आ रहा कि क्या कहूँ. 

Juhi Parmar And Sachin Shroff

तुमने मुझ पर इलजाम लगाकर मेरे कैरेक्टर पर सवाल खड़े कर दिए. तुम अब कहते हो कि मुझे तुमसे प्यार ही नहीं था परमैंने तो ऐसा कभी नहीं कहा, ऐसा कहकर तुम हमारी शादी और रिश्ते की बेइज़्ज़ती कर रहे हो. अगर प्यार ना होता तो नौसाल तक इस शादी में क्यों रहती? हमारे बच्चे को क्यों जन्म देती? मैंने अंत तक कोशिश की और यहाँ तक कि इस शादी के लिए मैंने अपना कैरियर तक छोड़ दिया. 

Juhi Parmar And Sachin Shroff

बिग बॉस जीतने के बाद मेरे पास काम के बहुत ऑफर्स थे पर तुम्हें लगा कि अब हमको बच्चा प्लान करना है तो मैंने मनानहीं किया. जो इंसान अपने परिवार से प्यार करता वो इस तरह सरेआम उसको बेइज़्ज़त नहीं करता, भले ही रिश्ता टूटगया हो.

Juhi Parmar

जूही के अनुसार अपनी बेटी का खर्चा दोनों मिलकर उठाते हैं ना कि सचिन अकेले. ख़ैर, इतनी सब बातों के बाद ये साफ़हो गया कि दोनों के दिलों में दरार काफ़ी गहरी थी और रिश्ते में तल्खियाँ बहुत ज़्यादा.

कामयाबी, नाकामयाबी, ईगो और झगड़ों के बीच प्यार कहीं खो सा गया था और अपने अहं की तुष्टि के बीच इनका भीरिश्ता भेंट चढ़ गया था.