व्रत का सेहत पर असर (Fasting: Health Benefits And Risks)

व्रत (Fasting) को आमतौर पर श्रद्धा और भक्ति से जोड़कर देखा जाता है. वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं, जो यह सोचकर व्रत रखते हैं कि इसी बहाने उनका वज़न कम हो जाएगा. लेकिन यह बहुत कम लोगों को पता है कि व्रत रखना सेहत के लिए बेहद फ़ायदेमंद होता है. चूंकि छठ के अवसर पर कई महिलाएं उपवास रखती  हैं. इसलिए पर आपको उपवास के हेल्थ बेनेफिट्स (Health Benefits) बता रहे हैं.

Fasting

चर्बी कम होती है
फास्टिंग वज़न कम करने का सुरक्षित तरीक़ा है. बहुत से अध्ययनों से यह सिद्ध हुआ है कि इंटरमीडिएंट फास्टिंग यानी कुछ घंटों के लिए भोजन ग्रहण नहीं करने पर हमारा शरीर ऊर्जा प्राप्त करने के लिए शुगर की बजाय शरीर में एकत्रित फैट का प्रयोग करता है,जिससे शरीर की चर्बी कम होती है.

इंसुलिन के प्रति संवेदनशीलता बढ़ती है
उपवास रखने से शरीर की इंसुलिन के प्रति संवेदनशीलता बढ़ती है, जिससे हमारा शरीर शुगर को बेहतर तरी़के इस्तेमाल करता है. एक अध्ययन से इस बात की पुष्टि हुई है कि कुछ दिनों तक व्रत रखने से इंसुलिन ब्लड में मौजूद ग्लूकोज़ को बेहतर तरी़के से ऊर्जा में परिवर्तित करता है.

मेटाबॉलिज़्म बढ़ता है
उपवास या व्रत रखने से हमारे पाचन तंत्र को आराम मिलता है, जिसका सकारात्मक असर हमारे मेटाबॉलिज़्म पर पड़ता है और हमारा शरीर कैलोरीज़ को बेहतर तरी़के से बर्न करता है. अगर हमारा पाचनतंत्र कमजोर होता है, तो इसका हमारे शरीर के फैट बर्न करने की क्षमता पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है. उपवास पाचनक्रिया को बेहतर बनाता है , जिससे पेट स्वस्थ रहता है.

उम्र बढ़ती है
आप चाहे विश्‍वास करें या न करें, लेकिन नियमित अंतराल पर उपवास रखने से उम्र बढ़ती है. जो लोग कम खाते हैं, वे ज़्यादा दिनों तक जीते हैं. बहुत से अध्ययनों से यह सिद्ध हुआ है कि खान-पान किस तरह हमारे उम्र को प्रभावित करता है. हम जितना कम खाते हैं, हमारा पाचनतंत्र उतना ही मजबूत बना रहता है.

भूख में सुधार
इस बारे में ज़रा ध्यान से सोचिए. अगर आप हर 2-3 घंटे पर कुछ खाते रहेंगे तो क्या आप वास्तविक भूख को महसूस कर पाएंगे? नहीं ना. वास्तव में भूख को महसूस करने के लिए कम से कम 8 से 10 घंटे खाली पेट रहने की आवश्यकता होती है. व्रत हमारे शरीर के हार्मोन्स को नियंत्रित करता है, जिससे असली भूख का सही एहसास होता है. कहने का अर्थ यह है कि व्रत रीसेट बटन की तरह कार्य करता है. हम जितने अधिक समय तक उपवास रखते हैं, हमारे शरीर को हार्मोन्स को नियंत्रित करने का उतना अधिक समय मिलता है, जिससे सही भूख का पता चलता है. इतना ही नहीं, जब शरीर के हार्मोन्स सही तरी़के से काम करते हैं, तो पेट जल्दी भर जाता है और मस्तिष्क को सही सिग्नल्स मिलते हैं.

खान-पान में सुधार आता है
जो लोग बिंज़ ईटिंग के शिकार होते हैं या जो काम या दूसरी ज़िम्मेदारियों के कारण खाने-पीने में लापरवाही बरतते हैं और किसी भी समय कुछ भी खा लेते हैं, उन्हें व्रत रखना चाहिए. उपवास करने से खान-पान की आदतें सुधरती हैं और व्यक्ति तय समय पर फलाहार या जूस इत्यादि लेता है. इसलिए यदि आप बिंज ईटिंग से छुटकारा पाना चाहते हैं तो व्रत रखें और तय समय पर ही कुछ ग्रहण करें. इससे काफ़ी फ़ायदा होगा.

दिमाग़ सही तरी़के से काम करता है
व्रत रखने से मस्तिष्क की कार्य प्रणाली में सुधार आता है, क्योंकि इससे ब्रेन डिराइव्ड न्यूरोट्रोफिक नामक प्रोटीन का उत्पादन बढ़ जाता है. यह प्रोटीन ब्रेन स्टेम सेल्स को न्यूरॉन्स में परिवर्तित करता है, जिससे मस्तिष्क बेहतर तरी़के से काम करता है.

रोग-प्रतिरोधक क्षमता बेहतर होती है
व्रत रखने से हमारे शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता बेहतर होती है, क्योंकि यह फ्री रेडिकल्स डैमेज को कम करता है, इंफ्लेमेटरी कंडिशन को कम करता है और कैंसर सेल्स के निर्माण को रोकता है. यही वजह है कि जब जानवर बीमार पड़ते हैं तो खाना छोड़ देते हैं और आराम करते हैं. इससे शरीर की आंतरिक प्रणाली को आराम मिलता है और शरीर इंफेक्शन से बेहतर तरी़के से लड़ पाता है. जबकि इसके ठीक विपरीत जब मनुष्य बीमार पड़ते हैं तो स्वस्थ होने के लिए वे खाने पर ज़्यादा जोर देने लगते हैं.

ये भी पढ़ेंः जानें अपना इमोशनल टाइप (What Is Your Emotional Type?)

आत्मज्ञान का एहसास होता है
व्रत हमें जीवन को और क़रीब से समझने का मौक़ा देता है और इस दौरान हमारा ध्यान पढ़ने, योग व मेडिटेशन इत्यादि की ओर जाता है. जब हमारे पेट में खाना नहीं होता है तो पाचनतंत्र को खाना पचाने के लिए मेहनत नहीं करनी पड़ती. जिससे ऊर्जा बचती है और हम ज़्यादा ऊर्जावान महसूस करते हैं. व्रत रखने से हम शारीरिक और मानसिक रूप से ज़्यादा स्वस्थ महसूस करते हैं. शरीर जितना हल्का होता है, दिमाग़ उतना ही चुस्त-दुरुस्त रहता है और हम अपने आस-पास की चीज़ों के प्रति उतने ही जागरूक होते हैं.

त्वचा में चमक आती है
एक दिन खाना ग्रहण नहीं करने पर शरीर से विषाक्त पदार्थ निकल जाते हैं, जिससे त्वचा में चमक आती है और लिवर, किडनी व अन्य अंगों की कार्यक्षमता बेहतर होती है.

ये भी पढ़ेंः दांतों की देखभाल के 5 आसान घरेलू उपाय (5 Homemade Dental Care Remedies)

व्रत से नुकसान भी
1 कई बार हम उपवास में फलाहार के चक्कर में ज़रूरत से ज़्यादा भोजन कर लेते हैं. इस भोजन को पचाने के लिए शरीर को ज़्यादा मेहनत करनी पड़ती है. इस वजह से उपवास के समय अन्य कामों के लिए पर्याप्त ऊर्जा नहीं मिल पाती.
2 उपवास आपके गुर्दों को प्रभावित कर सकता है व गुर्दे की पथरी का कारण भी बन सकता है. इस समस्या से बचने के लिए हमें पर्याप्त पानी (तरल पदार्थ) पीना चाहिए ताकि कैल्शियम तथा इस तरह के संबद्ध पोषक तत्व जमा ना हो सकें.
3 मधुमेह, उच्च रक्तचाप या ख़ून की कमी से पीड़ित लोगों को व्रत रखने से कुछ परेशानियां हो सकती हैं.
सावधानी
1 व्रत के दुष्प्रभावों से बचने के लिए हम नींबू पानी, पाइनेप्पल का रस, नारियल पानी, विटामिन ए से युक्त फल आदि भी ले सकते हैं.
2 बहुत ज़्यादा चाय या कॉफी, बर्फी या लड्डू जैसी मिठाइयां लेने से
बचना चाहिए.
3 गुर्दे, हृदय, जिगर या फेफड़ों से संबंधित दीर्घकालिक स्वास्थ्य समस्याओं को झेल रहे व्यक्तियों को केवल डॉक्टरों
से सहमति के बाद ही व्रत करना चाहिए.
4 गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को आलू, खीर, साबूदाना, पकोड़े जैसे हैवी खाने से परहेज़ करना चाहिए, क्योंकि इस तरह का खाना खाने से वज़न बढ़ सकता ह