#BollywoodStrikesBack: बॉली...

#BollywoodStrikesBack: बॉलीवुड पर फिर बरसीं कंगना रनौत, कहा इंडस्ट्री में एक-दूसरे के डर्टी सीक्रेट्स छिपाकर निभाते हैं वफ़ादारी (Kangna Ranaut Lashes Out on Bollywood again, Says They Hide Dirty Secrets To Express Loyalty To Each Other)


शाहरुख, सलमान, करन और आमिर समेत 34 प्रोडक्शन हाउसेज़ और संस्थाओं ने हाई कोर्ट में पिटीशन लगाई है और लिखा है कि बॉलीवुड को बदनाम करने से रोका जाए. पिटीशन में कुछ चैनल्स और पत्रकारों का नाम लिया गया है और कोर्ट से अपील की गई है कि बॉलीवुड हस्तियों के खिलाफ गैरजिम्मेदाराना और अपमानजनक रिपोर्टिंग रोकने के निर्देश दिए जाएं.

BollywoodStrikesBack


इस ख़बर पर कंगना रनौत ने अपने अंदाज में प्रतिक्रिया दी है. कंगना ने लगातार कई ट्वीट करके बॉलीवुड स्ट्राइक्स बैक का जवाब देते हुए कहा कि ये लोग एक-दूसरे की गंदगी छिपाकर अपनी वफ़ादारी ज़ाहिर करते हैं.


शाहरुख, सलमान, अक्षय और अजय देवगन समेत 34 प्रोडक्शन हाउस ने की हाई कोर्ट में अर्जी


बता दें कि 70 साल के फिल्मी इतिहास में पहली बार लगभग पूरी फिल्म इंडस्ट्री किसी मुद्दे पर एक साथ आ गई है. बॉलीवुड के खिलाफ गैरजिम्मेदाराना टिप्पणियों के आरोप में फिल्म इंडस्ट्री के 34 निर्माताओं ने दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर की है, जिसमें कुछ न्यूज़ चैनलों के खिलाफ शिकायत की गई है और कहा गया है कि इन न्यूज़ चैनलों पर बॉलीवुड के खिलाफ हो रही रिपोर्टिंग पर रोक लगाई जाए और बॉलीवुड के लोगों पर की गई आपत्तिजनक टिप्पणियों को वापस लिया जाए. इस याचिका में कहा गया है, ये चैनल बॉलीवुड के लिए अत्यधिक अपमानजनक शब्दों और उक्ति जैसे ‘गंदा’, ‘मैला’ ‘ड्रगी’ का इस्तेमाल कर रहे हैं. ये चैनल ‘यह बॉलीवुड है जहां गंदगी को साफ करने की जरूरत है’, ‘अरब के सभी इत्र बॉलीवुड की बदबू को दूर नहीं कर सकते हैं’, ‘यह देश का सबसे गंदा उद्योग है’ आदि उक्तियों का इस्तेमाल कर रहे है.’ जिन्हें हटवाने की अपील हाई कोर्ट से की है. मीडिया ट्रायल के खिलाफ सलमान खान, शाहरुख खान और आमिर खान एक साथ आए हैं. अर्जी लगाने वालों में अजय देवगन और अक्षय कुमार की कंपनियां भी शामिल हैं.

कंगना ने फिर उठाए बॉलीवुड पर कई सवाल

Kangna Ranaut

कंगना रनौत ने इंडस्ट्री के इस रवैये पर सख़्त एतराज़ जताया है और एक बार फिर कई ट्वीट्स करके बॉलीवुड पर बरस पड़ी हैं.

ट्वीट नं. 1: मैं जब तक मैं ज़िंदा हूं, मैं तुम सबको एक्सपोज़ करती रहूंगी

Kangna Ranaut


कंगना ने लिखा- बुलीवुड (कंगना बॉलीवुड को यही लिखती हैं) ड्रग्स, उत्पीड़न, नेपोटिज़्म और जिहाद का गटर है. इसका ढक्कन खुल गया है. इसे साफ़ करने के बजाए #BollywoodStrikesBack मुझ पर भी केस करेगा. मैं जब तक मैं ज़िंदा हूं, मैं तुम सबको एक्सपोज़ करती रहूंगी.

ट्वीट नं. 2: तुम मेरे डर्टी सीक्रेट्स छिपाओ, मैं तुम्हारे छिपाऊंगा

Kangna Ranaut


इंडस्ट्री का अपना एक नियम है. तुम मेरे डर्टी सीक्रेट्स छिपाओ, मैं तुम्हारे छिपाऊंगा. एक-दूसरे के लिए लॉयल्टी यानी वफादारी साबित करने का इनका यही तरीक़ा है. जब से मैं पैदा हुई हूं, फ़िल्म परिवारों के मुट्ठीभर लोगों द्वारा इंडस्ट्री को चलाते हुए देख रही हूं. यह कब बदलेगा?

ट्वीट नं. 3: बड़े हीरो औरतों को ऑब्जेक्ट की तरह पेश करते हैं

Kangna Ranaut


कंगना ने आगे लिखा- बड़े हीरो ना सिर्फ़ औरतों को ऑब्जेक्ट की तरह पेश करते हैं, बल्कि यंग लड़कियों का शोषण भी करते हैं. वे सुशांत सिंह राजपूत जैसे यंग लोगों को आगे नहीं आने देते. ख़ुद 50 की उम्र में स्कूल किड का रोल निभाते हैं. वे किसी के लिए खड़े नहीं होते, चाहे उनकी आंखों के सामने ही कुछ ग़लत क्यों न हो रहा हो. 

ट्वीट नं. 4: बॉलीवुड के गटर में रेंगने वालों अब पता चला, कैसा लगता है


एक अन्य ट्वीट में सुशांत की तस्वीर के साथ कंगना ने लिखा- बॉलीवुड के गटर में रेंगने वालों अब पता चला, कैसा लगता है, जब सारे देश के सामने बेइज़्ज़त किया जाता है? निशाना बनाया जाता है? आइसोलेट किया जाता है? क्यों कहीं छुप या भाग जाने का मन कर रहा है? तुम इतने सारे भेड़िए हो झुंड में, अकेले का मन तो करेगा कि मर जाएं, नहीं? 

ट्वीट नं. 5: सुशांत की मृत्यु के बहाने बॉलीवुड का गटर साफ़ हो रहा है


कंगना ने अपनी मिसाल देते हुए लिखा- मैं कई सालों से बॉलीवुड में शोषण और उत्पीड़न की शिकायत कर रही हूं. आज उसी कारण एक कलाकार की मृत्यु हो गयी. अगर सुशांत की मृत्यु के बहाने बॉलीवुड का गटर साफ़ हो रहा है, तो इनको इतनी तकलीफ़ क्यों हो रही है? इसका भी सारा हिसाब है मेरे पास.


कंगना के इन ट्वीट्स को यूज़र्स जमकर सपोर्ट कर रहे हैं और कंगना के समर्थन में ट्वीट भी कर रहे हैं. बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत डेथ केस में कंगना ने शुरू से ही उनकी मौत के लिए बॉलीवुड की खेमेबाज़ी, नेपोटिज़्म और कथित उत्पीड़न को ज़िम्मेदार ठहराया था.