कविता- ज़रूरी थी… (Kavita- Zaruri Thi…)

Kavita- Zaruri Thi

बाकी थी तमन्नाएं हसरत अधूरी थी

चाहतें तड़पती थीं और दुआ अधूरी थी

फिर तेरी आंख से जीने का उजाला मांगा

उम्र तो मिली थी मुझे रोशनी ज़रूरी थी

व़क्त तो कट जाता ज़ुल्फ़ों की छांव में

पर ज़िंदगी गुज़रने को धूप भी ज़रूरी थी

धूल तेरे पांव की चंदन सी महकी थी

ख़ुशबू बदन की तेरी सांस में ज़रूरी थी

ऩज़रें बदलती रहीं हालात देख कर

एक निगाह ऐसे में तेरी ज़रूरी थी…

Murli Manohar Shrivastav

मुरली मनोहर श्रीवास्तव

 

मेरी सहेली वेबसाइट पर मुरली मनोहर श्रीवास्तव की भेजी गई कविता को हमने अपने वेबसाइट में शामिल किया है. आप भी अपनी कविता, शायरी, गीत, ग़ज़ल, लेख, कहानियों को भेजकर अपनी लेखनी को नई पहचान दे सकते हैं…

यह भी पढ़े: Shayeri

 

Summary
कविता- ज़रूरी थी... (Kavita- Zaruri Thi…) | Best Hindi Kavitaye | Hindi Poem
Article Name
कविता- ज़रूरी थी... (Kavita- Zaruri Thi…) | Best Hindi Kavitaye | Hindi Poem
Description
मेरी सहेली वेबसाइट पर मुरली मनोहर श्रीवास्तव की भेजी गई कविता को हमने अपने वेबसाइट में शामिल किया है. आप भी अपनी कविता, शायरी, गीत, ग़ज़ल, लेख, कहानियों को भेजकर अपनी लेखनी को नई पहचान दे सकते हैं…
Author