काव्य- ईश्वर की खोज जारी है...

काव्य- ईश्वर की खोज जारी है… (Kavya- Ishwar Ki Khoj Jari Hai…)

मनमुटाव तो शुरुआत से ही रहा
इसीलिए खींच दी गई
लक्ष्मण-रेखाएं
ईश्वर को ढूंढ़ा गया
उससे मिन्नतें-मनुहार की
फ़ैसला तब भी न हुआ

तब..
धर्मों को गढ़ा
जातियों को जन्म दिया
परंपराओं की दुहाई दी
बंटवारा किया गया सभ्यताओं का भी
और
मनुष्यता कटघरे में ही रही

आरोप-प्रत्यारोप किए
ईश्वर को दोषी करार दिया गया
कभी प्रश्न उठाए गए
उसके होने-न होने पर भी
इसीलिए
स्वयं को भी ईश्वर घोषित किया
समस्याएं जस की तस

सुनो,
ईश्वर की खोज जारी है…

Namita Gupta 'Mansi'
नमिता गुप्ता ‘मनसी’
Kavya

यह भी पढ़े: Shayeri