कहानी- वर्जिन लड़की (Short Story- Virgin Ladki)

“रितु, वर्जिनिटी से बड़ा लिंग भेद कुछ भी नहीं आज हमारे समाज में. एक ओर जहां लड़कों से कुछ भी नहीं पूछा जाता, वहीं दूसरी ओर लड़कियों के चरित्र को प्रमाणित करने के लिए न जाने कैसे-कैसे शब्द और तरी़के इजाद कर दिए गए हैं. यह पुरुषों की सत्ता और झूठे अहंकार को बनाए व बचाए रखने की बातें हैं और कुछ भी नहीं. पर सारे पुरुष एक जैसे नहीं होते.”

Short Story- Virgin Ladki

मेरे तकिये के नीचे अब भी तुम्हारी यादें दुबकी पड़ी हैं… मेरे सिरहाने तुम्हारे वो ढेरों चुंबन अंकित हैं, जो कभी ख़्वाबों में तुमने मुझे दिए, तो कभी रू-ब-रू… मेरे दरीचों से अब भी तुम्हारा अक्स मुस्कुराता नज़र आता है… मेरे आंगन में तुम्हारी धड़कनें अब भी बिखरी रहती हैं… फिर क्यों तुम यहां नहीं हो मेरे पास? ऐसी क्या मजबूरी थी कि बिना कुछ कहे यूं ही चले गए मेरी ज़िंदगी से अचानक… ठीक उसी तरह, जिस तरह अचानक तुम मेरी ज़िंदगी में आए थे.
तुम्हें शायद ये एहसास ही नहीं कि मैं अब भी ज़िंदगी के उसी मोड़ पर खड़ी हूं, जहां तुम मुझे छोड़कर चले गए थे. तुम नहीं लौटकर आओगे अब शायद, यह मैं समझ चुकी हूं, लेकिन मेरा दिल नहीं समझ रहा… इसे कहीं न कहीं अब भी तुमसे उम्मीदें हैं… ये अब भी तुम्हारे ख़्वाब संजोता है, अब भी तुम्हारे ख़्यालों से इसे सिहरन होती है… तुम्हारी वो पहली छुअन अब भी मुझे भीतर तक भिगो देती है. कितना अपनापन था उस छुअन में… बहुत पाक-साफ़ था वो एहसास, ख़ालिस प्रेम था उसमें. क्या तुम्हें याद नहीं आते हमारे प्यार के वो पल? वो घंटों बैठकर बातें करना, वो तुम्हारा मेरे लिए कॉफी बनाना… वो अपनी पुरानी गर्लफ्रेंड के क़िस्से सुनाना…!
और हर बार मेरा यही सवाल होता था, इतना प्यार करते थे, तो शादी क्यों नहीं की… और तुम कहते थे, “कितनी बार बताया, गांव में जाति-गोत्र सब देखे जाते हैं, सो शादी नहीं हो पाई.”
“मुझसे तो करोगे न…?” और तुम हंस देते बस… उस हंसी की खनक अब भी कानों में गूंजती है… मैं भी कितनी पागल थी, शादी तो तुमको मुझसे भी नहीं करनी थी, सो नहीं की… यूं ही एक दिन अचानक तुमने बिना कुछ कहे, बिना बताए ख़ुद को समेट लिया. कितनी बार फोन किया, कितने मैसेज किए… तुमने पढ़कर भी जवाब नहीं दिया.
पर मेरा दिल था कि मान ही नहीं रहा था… तुम्हारा इंतज़ार करने के सिवा कोई चारा भी तो नहीं था मेरे पास. तुम्हारी होने के बाद किसी और की होने की हिम्मत भी नहीं थी. ख़ैर, किसी तरह ख़ुद को संभाल रही हूं. ज़िंदगी को जितना संभव हो सामान्य बनाए रखने की पुरज़ोर कोशिश में थी मैं.
“रितु, तैयार नहीं होना क्या आज तेरी दिल्ली की फ्लाइट है. छूट न जाए कहीं.” मम्मी की आवाज़ से ख़्यालों का सिलसिला टूटा.
“हां मम्मी, बस तैयार ही हूं.”
संडे था, इसलिए ट्रैफिक नहीं था रोड़ पर. एयरपोर्ट जल्दी ही पहुंच गई थी मैं. सिक्योरिटी चेक से बाहर निकलकर सोचा कुछ शॉपिंग कर लूं… बैग्स की एक शॉप की तरफ़ नज़र गई, तो एक पल को ठिठक गई. अरे! क्या मेरी नज़रें धोखा खा रही हैं? नहीं, बिल्कुल नहीं. तुम ही तो हो. तुम्हें पहचानने में भला कैसे भूल कर सकती हूं मैं.
“कैसे हो राजवीर?” मैंने गंभीरता से कहा, तो वो थोड़ा असहज हो गया, फिर संभलते हुए बोला, “अरे, रितु तुम. मैं बिल्कुल ठीक हूं. तुम कैसी हो?”
“कमाल है, तुम्हें क्या लगता है कि मैं कैसी होऊंगी?”
“सॉरी रितु, पर मैं यहां कोई सीन क्रिएट नहीं करना चाहता. बेहतर होगा हम आराम से बात करें इस मुद्दे पर.”
“यूं अचानक मुझे ज़िंदगी के मोड़ पर अकेला छोड़कर चले गए तुम, बिना कोई वजह बताए, तो इतना हक़ बनता है मेरा कि जान सकूं आख़िर क्या कारण था, जो इतना बड़ा धोखा दिया तुमने मुझे.”
“धोखे की क्या बात है यार इसमें. हम दोनों एडल्ट हैं, हम एक-दूसरे की तरफ़ आकर्षित थे, जो कुछ भी हमने किया प्यार में किया.”
“और अब क्या प्यार ख़त्म हो गया? तुमने मुझसे शादी का वादा किया था. तुम्हारे उस वादे पर भरोसा था मुझे.”

यह भी पढ़ें: संपत्ति में हक़ मांगनेवाली लड़कियों को नहीं मिलता आज भी सम्मान… (Property For Her… Give Her Property Not Dowry)
“तुम ऐसा सोच भी कैसे सकती हो रितु कि मैं तुम जैसी लड़की से शादी करूंगा? ज़रा ख़ुद सोचो, जो लड़की इतनी आसानी से किसी लड़के के साथ… तुम समझ रही हो न. बीवी कैसे बन सकती हो तुम. हां, चाहो तो हम अब भी… क्योंकि तुम बहुत अट्रैक्टिव हो…”
एक ज़ोरदार तमाचा जड़ते-जड़ते रह गई थी मैं तुम्हारी इस घटिया सोच पर, लेकिन रोक लिया ख़ुद को, क्योंकि मैं भी कोई सीन क्रिएट नहीं करना चाहती थी एयरपोर्ट पर.
हां, तुम्हारा असली रंग ज़रूर देख चुकी थी. लड़कियों को स़िर्फ इस्तेमाल करके ज़िंदगी से बाहर निकाल फेंकना तुम्हारी आदत ही नहीं, शौक़ भी था यह भी समझ चुकी थी. ख़ैर, किसी तरह ख़ुद को संभाला मैंने और दिल्ली पहुंची. बाहर निकलते समय तुम्हारे चेहरे की कुटिल मुस्कान को कभी नहीं भूल सकती मैं.
समय बीत रहा था. तुम्हारे दिए ज़ख़्म भर तो रहे थे, लेकिन कहीं न कहीं उनमें दर्द था, वो भी बहुत ज़्यादा. मैंने अपना पूरा ध्यान प्रैक्टिस पर लगा दिया. मम्मी-पापा का सपना था कि मैं एक कामयाब डॉक्टर बनूं. उनका सपना आकार ले रहा था.
आज इतने सालों बाद तुम फिर मेरे सामने हो, बेहद मजबूर, लाचार और ग़मगीन से… कहां गया तुम्हारा वो ग़ुरूर? कहां गई वो कुटिल मुस्कान? शायद ये कायनात का ही एक फैसला था, तुम्हारे पाप की सज़ा तुम्हारी बेटी भुगत रही थी. हालांकि एक स्त्री होने के नाते मैं कभी नहीं चाहूंगी कि किसी भी लड़की के साथ ऐसा हो, लेकिन समय न जाने कब किसको क्या दिखा दे.
“डॉक्टर रितु, कैसी है मेरी बेटी अब?”
“जी, वो अब बेहतर है. पर होश में नहीं आई अब तक. थोड़ा इंतज़ार कीजिए और हौसला रखिए मिसेज़ राजवीर.”
“कैसे रखूं हौसला, न जाने कौन था वो लड़का, जिसने मेरी बेटी का ये हाल बना दिया. कैसे संस्कार रहे होंगे उसके, जो एक लड़की को ज़िंदगी के ऐसे मोड़ पर लाकर धोखा देकर भाग गया. कायर कहीं का, कभी सुखी नहीं रहेगा वो… ”
राजवीर की पत्नी बोले जा रही थी और रजवीर की नज़रें झुकी जा रही थीं.
“राजवीर और मैंने डॉली को इतने लाड़-प्यार से पाला था. मेरी फूल जैसी बच्ची का ये हाल बना दिया कि आज उसने आत्महत्या की कोशिश जैसा क़दम उठा लिया…”
मुझे बुरा इसलिए लग रहा था कि ऊपरवाले ने राजवीर की बेटी को ही ज़रिया क्यों बनाया उसे अपने किए का एहसास दिलाने के लिए… ख़ैर बेटी किसी की भी हो, ऐसा किसी के साथ न हो. इतने में ही डॉली को होश आ गया. हम सब अंदर गए. बच्ची बुरी तरह डरी हुई थी. मैंने उसे प्यार से पूछा, “बेटा, डरो मत. खुलकर अपनी बात कहो. क्यों किया तुमने ऐसा? अगर किसी ने तुम्हारे साथ ज़्यादती की, तो तुम्हें ज़रूर न्याय मिलेगा.”
“मम्मी-पापा, आई एम सॉरी. सब मेरी ही ग़लती है. मुझे नहीं पता था कि मेरे आज़ाद ख़्यालों को, मेरी मॉडर्न लाइफस्टाइल को कोई मेरे चरित्र से जोड़कर देखेगा और मेरा फ़ायदा उठाएगा.”
“बेटा मैं और तेरे पापा इतने आज़ाद ख़्यालों के हैं, कम से कम ऐसा कोई भी क़दम उठाने से पहले एक बार अपनी परेशानी हमसे शेयर तो की होती… तुझे कुछ हो जाता तो, किसके लिए जीते हम.” मिसेज़ राजवीर का दर्द छलक पड़ा.
“सॉरी मॉम, मैं इतनी डिप्रेशन में थी कि पता ही नहीं चला कि मेरे साथ हो क्या रहा है… रोहित ने इस तरह से छला मुझे…”
“डॉली अपने मन से अब सारी निगेटिव बातें निकाल दो और सारा क़िस्सा
साफ़-साफ़ बताओ…” मैंने डॉली को समझाते हुए कहा. राजवीर इस पूरे मसले पर चुप्पी ही साधे हुए था… ख़ैर, डॉली ने अपनी बात आगे बढ़ाई.
“आंटी, रोहित मेरे ही ऑफिस में मेरा सीनियर है. बहुत दिनों से वो मुझे लगातार अपने प्यार का भरोसा दिला रहा था. हम डेट कर रहे थे एक-दूसरे को. इतना समझदार, इतना मैच्योर लगा मुझे वो, बिल्कुल पापा की तरह. मेरा ख़्याल रखता था, मेरी हर ज़रूरत पर साथ खड़ा रहता था. मुझे पूरा भरोसा हो गया था कि इससे बेहतर जीवनसाथी मुझे नहीं मिलेगा.
दो महीने पहले हम आउटिंग पर गए थे. बस वो एक कमज़ोर पल था, जिसमें हमसे ग़लती हो गई थी. रोहित ने कहा था जल्द ही घर आकर शादी की बात करेगा. पर…” यह कहते ही डॉली फूट-फूटकर रोने लगी.
“धैर्य रखो डॉली, ग़लतियां ही हमें ज़िंदगी जीने का सबक और हौसला देती हैं.”
“आप ठीक कह रही हैं आंटी. रोहित पर भरोसा करना एक बहुत बड़ी भूल थी. उसने धीरे-धीरे मुझसे दूरी बनानी शुरू कर दी. मेरे फोन उठाने और मेरे मैसेजेस के जवाब देने भी बंद कर दिए. फिर मुझे पता चला कि उसकी एंगेजमेंट हो रही है और उसने रिक्वेस्ट करके दूसरे शहर में ट्रांसफर ले लिया.
मुझे तो कुछ समझ में नहीं आ रहा था. विश्‍वास ही नहीं हो रहा था. मैंने किसी तरह रोहित से बात करने की कोशिश की, तो उसने कहा ऑफिस में सीन क्रिएट मत करो, शाम को कॉफी हाउस में बात करते हैं.
हम शाम को गए. मैंने उसकी एंगेजमेंट की बात पूछी, तो उसने कहा कि प्यार और शादी दो अलग-अलग चीज़ होती हैं. तुम जैसी लड़कियों को गर्लफ्रेंड तो बनाया जा सकता है, पर शादी… शादी के लिए संस्कारी और वर्जिन लड़की ही सही होती है. तुम मेरे साथ शादी से पहले ही इतनी कंफर्टेबल हो गई, तो न जाने और किस-किस के साथ… एक चांटा मारकर मैं वहां से चली आई. ऐसे गंदी सोच और बुरी नीयतवाले लड़के से मुझे अपना कैरेक्टर सर्टिफिकेट नहीं चाहिए था.”
“वो सब तो ठीक है डॉली, तुम एक स्ट्रॉन्ग और कॉन्फिडेंट लड़की हो, तुमने भला सुसाइड जैसा ग़लत क़दम क्यों उठाया? अपने मम्मी-पापा से मदद लेनी चाहिए थी.”
“आप ठीक कह रही हैं. पर मेरी हिम्मत नहीं थी, क्योंकि मैं प्रेग्नेंट हो गई थी. रोहित को बताया भी था यह सोचकर कि शायद बच्चे की बात सुनकर वो सही क़दम उठाएगा, पर उसने कहा कि ये उसका बच्चा है ही नहीं… पापा, आप कुछ बोलो न, आप ही तो कहते थे कि लड़की किसी लड़के से कम नहीं होती, तो क्यों उसे हर किसी को अपना कैरेक्टर सर्टिफिकेट देना होता है… कभी अपने कपड़ों के माध्यम से, कभी नज़रें झुकाकर, कभी शर्माकर, तो कभी मर्दों के सामने गिड़गिड़ाकर.
मुझे लगा कौन मुझे और मेरे बच्चे को अपनाएगा. एबॉर्शन करवाकर मैं अपने बच्चे की जान नहीं लेना चाहती थी, तो सोचा ख़ुद ही अपनी जान लेकर अपने बच्चे को भी इस फरेबी दुनिया में आने से बचा लूं. पर देखो डॉक्टर मेरी जान आपने बचा ली, पर मेरा बच्चा…” डॉली रोने लगी.

यह भी पढ़ें: आज भी होते हैं लड़कियों के वर्जिनिटी टेस्ट्स…! (‘Stop The V-Ritual’: The Fight To End Virginity Test)
राजवीर के चेहरे का रंग उड़ा हुआ था. वो कुछ न बोल सका.
“डॉली, तुम्हारी जान बच गई ये भी कम बात नहीं. पर अफ़सोस कि तुम्हारे बच्चे को हम बचा नहीं सके. रही बात रोहित जैसे लड़कों की, तो तुम्हें किसी को अपना कैरेक्टर सर्टिफिकेट देने की ज़रूरत नहीं है. दरसअल, समस्या हमारे समाज की सोच में ही है. वो बेटों को संस्कार देने की बजाय बेटियों के तन ढांकने में ज़्यादा विश्‍वास रखता है. बेटों को बेलगाम छोड़ देता है और बेटियों को तमाम तरह की बेड़ियों में जकड़ने की नसीहतें देता है. यही वजह है कि तुम जैसी स्ट्रॉन्ग लड़की भी हक़ की लड़ाई लड़ने की बजाय पलायन का रास्ता चुनती है.
हम सभी ऐसे ही हैं. मैं भी भले ही बड़ी-बड़ी बातें कर लूं, लेकिन अगर मेरे साथ ग़लत होता, तो मैं भी लड़ने का हौसला नहीं रख पाती, पर अब मैं तुमसे वादा करती हूं कि तुम्हारी लड़ाई मैं लड़ूंगी.”
डॉली और उसके पैरेंट्स के साथ जाकर पुलिस स्टेशन में रोहित के ख़िलाफ़ कंप्लेन दर्ज करवाई और डॉली को इंसाफ़ भी ज़रूर मिल जाएगा.
“रितु, मैं तुमसे माफ़ी भी मांगने लायक नहीं हूं. तुमने मेरे लिए जो कुछ भी किया…”
“राजवीर, मैंने तुम्हारे लिए नहीं, जो भी किया, डॉली के लिए किया.”
“मैं तुम्हारा अपराधी हूं… मैंने तुम्हारी ज़िंदगी बर्बाद की… ”
“राजवीर, मैं तुम्हें साफ़-साफ़ बता दूं कि न मेरी ज़िंदगी बर्बाद हुई और न मैं अपने बीते हुए कल में जीती हूं. मैं तो तुम्हें ‘थैंक्स’ कहना चाहती हूं कि तुम जैसे इंसान की पत्नी बनने से बच गई… रही बात मेरी, तो हां शादी और प्यार जैसी पवित्र भावनाओं पर आज भी मेरा विश्‍वास है. और मैं चाहती हूं कि डॉली भी मानसिक रूप से ऐसी ही सोच के साथ आगे बढ़े. इसीलिए तुम्हें घर पर बुलाया कि उसकी काउंसलिंग पर थोड़ा ध्यान देना होगा. उसके मन से नकारात्मक विचार निकालने ज़रूरी हैं, तभी वो एक सकारात्मक जीवन जी पाएगी.”
राजवीर चला गया. मेरे मन को आज एक तसल्ली थी, जो मैं अपने लिए न कर सकी, वो डॉली के लिए करने की हिम्मत जुटा पाई. कितनी मासूम और प्यारी बच्ची है डॉली, बिल्कुल मेरी रानी की तरह…
“रितु मैडम, क्या बात है, किन ख़्यालों में खोई हो.”
“अरे, अजय आप आ गए हॉस्पिटल से. मैं बस राजवीर और डॉली के बारे में सोच रही थी.”
“तुमने बहुत अच्छा काम किया. रोहित जैसे लड़कों को यूं ही छोड़ने का मतलब है किसी और लड़की की ज़िंदगी दांव पर लगाना. तुमने भी तो बरसों पहले यही ग़लती की थी, पर कोई बात नहीं, देर आए, दुरुस्त आए.”
“आप जैसा जीवनसाथी पाकर सच में मैं ख़ुद को ख़ुशनसीब समझती हूं, वरना जीवन के एक मुकाम पर तो शादी और प्यार से भरोसा ही उठ गया था मेरा. पर मैं आज तक नहीं समझ पाई, आपके मन में उस व़क्त ये बात नहीं आई कि आपको भी शादी किसी वर्जिन लड़की से ही करनी चाहिए.”
“रितु, वर्जिनिटी से बड़ा लिंग भेद कुछ भी नहीं आज हमारे समाज में. एक ओर जहां लड़कों से कुछ भी नहीं पूछा जाता, वहीं दूसरी ओर लड़कियों के चरित्र को प्रमाणित करने के लिए न जाने कैसे-कैसे शब्द और तरी़के इजाद कर दिए गए हैं. यह पुरुषों की सत्ता और झूठे अहंकार को बनाए व बचाए रखने की बातें हैं और कुछ भी नहीं. पर सारे पुरुष एक जैसे नहीं होते.”
“जी हां, समझ गई मिस्टर हसबैंड, कुछ लोग आपकी तरह भी होते हैं. चलिए अब खाना खा लेते हैं. मैंने आपके लिए और आपकी लाड़ली बेटी रानी के लिए कुछ स्पेशल बनाया है.”

Geeta Sharma

         गीता शर्मा

अधिक शॉर्ट स्टोरीज के लिए यहाँ क्लिक करें – SHORT STORIES

Summary
कहानी- वर्जिन लड़की (Short Story- Virgin Ladki) | Hindi Kahaniya | Hindi Story
Article Name
कहानी- वर्जिन लड़की (Short Story- Virgin Ladki) | Hindi Kahaniya | Hindi Story
Description
“रितु, वर्जिनिटी से बड़ा लिंग भेद कुछ भी नहीं आज हमारे समाज में. एक ओर जहां लड़कों से कुछ भी नहीं पूछा जाता, वहीं दूसरी ओर लड़कियों के चरित्र को प्रमाणित करने के लिए न जाने कैसे-कैसे शब्द और तरी़के इजाद कर दिए गए हैं. यह पुरुषों की सत्ता और झूठे अहंकार को बनाए व बचाए रखने की बातें हैं और कुछ भी नहीं. पर सारे पुरुष एक जैसे नहीं होते.”
Author
Publisher Name
Pioneer Book Company Pvt Ltd
Publisher Logo