नौकरानी का काम किया, पागलों...

नौकरानी का काम किया, पागलों की तरह सड़कों पर घूमीं और फुटपाथ पर सोईं, ऐसी थी एक्ट्रेस शशिकला की लाइफ (Worked as a Maid, slept on Footpath, Roamed On Road, Know the unknown Struggle Story Of Actress Shashikala)


हिंदी सिनेमा में जब भी खूबसूरत खलनायिकाओं का ज़िक्र होता है, शशिकला का चेहरा आंखों के सामने सबसे पहले आता है. 70 के दशक की हिट एक्ट्रेस शशिकला ने फिल्मों में हीरोइन और वैम्प दोनों तरह का किरदार निभाया. शशिकला न सिर्फ बेहतरीन एक्ट्रेस थीं, बल्कि मौका मिलने पर उन्होंने खुद को एक उम्दा डांसर के तौर पर भी साबित किया. लगभग 100 बॉलीवुड फिल्मों में काम करनेवाली शशिकला के लिए लाइफ आसान कभी नहीं रही. प्रोफ़ेशनल लाइफ में ही नहीं, पर्सनल लाइफ में भी उन्हें बहुत दुख मिले. आइए जानते हैं, शशिकला के बारे में कुछ दिलचस्प बातें.

करीब 8 दिन तक हम लोगों को खाना नहीं मिला

Shashikala

शशि का जन्म एक मराठी परिवार में हुआ था. उनका पूरा नाम शशिकला जावलकर है. हालांकि, शशिकला का बचपन शानदार तरीके से गुजरा. शशिकला के पिता का सोलापुर में कपड़ों का बहुत बड़ा बिजनेस था. शशिकला ने एक इंटरव्यू में बताया था, ‘मेरे पिता ने चाचा के बेटे को पढ़ने के लिए इंग्लैंड भेज दिया और पूरी कमाई उसको भेजने लगे. हम 6 भाई-बहन थे, लेकिन पिता ने अपने परिवार से ज्यादा भाई की जरूरतें पूरी कीं. एक समय ऐसा आया जब उसकी बहुत अच्छी नौकरी लग गई, लेकिन तब वो हमारे परिवार को भूल गए. इधर मेरे पिता को बिज़नेस में बहुत घाटा हो गया और वे दिवालिया हो गए. वो जीवन के बड़े मुश्किल दिन थे. करीब 8 दिन तक हम लोगों को खाना नहीं मिला. हम लोग इंतजार करते थे कि कोई हमें अपने घर पर लंच के लिए इनवाइट कर ले.’

11 साल की उम्र में काम ढूंढना किया शुरू किया

Shashikala


शशिकला तब सार्वजनिक गणेशोत्सव के कार्यक्रमों में हिस्सा लिया करती थीं. जब उनके घर की हालत बहुत खराब हो गई, तो उनके पिता से लोगों ने कहा कि शशिकला देखने में सुंदर है और अच्छी एक्टिंग भी कर लेती है. फिल्मों में ट्राई क्यों नहीं करते. उसे फिल्मों में काम मिल जाएगा. आखिरकार महज 11 साल की उम्र में शशिकला अपने परिवार के साथ मुंबई आ गईं और एक स्टूडियो से दूसरे स्टूडियो जाकर काम ढूंढना शुरू किया.

फिल्मों में काम नहीं मिला, तो लोगों के घरों में काम करने लगीं शशिकला

Shashikala


मुंबई में शशिकला ने काम पाने की बहुत कोशिश की, लेकिन उन्हें जल्दी सफलता नहीं मिली. एक तो उनकी उम्र बहुत कम थी. दूसरे हिंदी और उर्दू में उनकी ज़बान साफ नहीं थी. मजबूरी में उनको लोगों के घर में काम करना पड़ा. इसी दौरान उनकी मुलाकात एक्ट्रेस और सिंगर नूरजहां से हुई. नूरजहां ने पति से कहकर उन्हें फिल्म में काम दिलवा दिया. शशिकला ने 1945 में फिल्म ‘जीनत’ में काम किया, जिसके लिए उन्हें 25 रुपए मिले थे. इस फिल्म के बाद उन्होंने कई फिल्मों में काम किया. फिल्मों में कामयाबी मिलने के बाद शशिकला ने एक्टर केएल सहगल के रिलेटिव ओम प्रकाश सहगल से शादी कर ली, कुछ वक्त दोनों का काफी अच्छा गुजरा. लेकिन अचानक उनके पति को फ़िल्म बनाने की धुन सवार हो गई और उन्होंने फिल्म ‘करोड़पति’ की शुरुआत कर दी.

और पैसों की तंगी की वजह से जब शशिकला को हीरोइन से विलन बनना पड़ा

Shashikala

फिल्म ‘करोड़पति’ के दौरान शशिकला के पति बुरी तरह कर्ज़ में डूब गए. आखिर पैसे कमाने के लिए शशिकला को जो भी फिल्में मिलीं, वो करनी पड़ीं. उन्होंने स्टंट फिल्में भी की और फिल्मों में छोटे मोटे रोल भी किए. इसी दौरान राजश्री प्रोडक्शन की फ़िल्म ‘आरती’ में उन्होंने नेगेटिव रोल का ऑफर आया और इस फ़िल्म में वैम्प के रोल में लोगों ने उन्हें इतना पसन्द किया कि वो वैम्प ही बन गईं. दर्शकों के बीच वो ‘बुरी औरत’ बन गईं और इस बुरी औरत के रूप में उन्हें लोगों का खूब प्यार भी मिला.

पति से अलगाव हुआ और विदेश में भी मिला धोखा

Shashikala


इस दौरान शशिकला ने दो बेटियों को भी जन्म दिया, लेकिन पति के साथ उनके मनमुटाव और लड़ाई-झगड़े होने लगे. दोनों के बीच तनाव इतना बढ़ गया कि एक दिन शशिकला ने घर-परिवार और बेटियों को छोड़ दिया और एक शख्स के साथ विदेश चली गईं. ये उनके जीवन की शायद सबसे बड़ी गलती थी. शशिकला ने एक इंटरव्यू में कहा था, ‘जिस शख्स के साथ मैं विदेश गई, उसने मुझे मेंटली और फिजिकली खूब टॉर्चर किया. बड़ी मुश्किल से खुद को बचाकर इंडिया लौटीं.’

सड़कों पर भटकना पड़ा था

Shashikala


विदेश में रिश्ते में मिले धोखे के बाद जब शशिकला वापस लौटीं, तो आकर वो पागलाें की तरह सड़क पर घूमती थीं. फुटपाथ पर सोती थीं. कोई कुछ हाथ में खाने के लिए रख देता था, तो वो खा लेती थीं. शांति की तलाश में आश्रम और मंदिरों में भटकती रहती थीं. और फिर वो कोलकाता मदर टेरेसा के आश्रम गईं. शशिकला ने कोलकाता में लोगों की सेवा की तब उन्हें थोड़ी शांति मिली.

फिर ज़िम्मेदारियों के चलते करनी पड़ी एक्टिंग

Shashikala

वहां से जब थोड़ी शांति मिली और वो दोबारा मुंबई लौटीं तो उन्हें पता चला कि उनको बड़ी बेटी को कैंसर हो गया है. बेटी की दो छोटी बेटियां थीं. दो साल कैंसर से लड़ने के बाद आखिर बेटी की डेथ हो गई. दोनों नातिनों की ज़िम्मेदारी संभालने के लिए आखिर शशिकला को फिर एक्टिंग शुरू करनी पड़ी. दूसरी पारी की शुरुआत उन्होंने टेलीविजन से की और ‘जुनून’, ‘आह’, ‘सोनपरी’, ‘किसे अपना कहें’ जैसे सीरियलों में काम किया.
फिलहाल शशिकला ने फिर खुद को एक्टिंग से दूर कर लिया है और खबरों के अनुसार वो अपनी नातिन के साथ पुणे में रहती हैं.