Panchtantra ki Kahaniyan

kahani

पंचतंत्र की कहानी- बगुला भगत (Panchtantra Story- Greedy crane)

एक वन प्रदेश में बहुत बड़ा तालाब था. वहां हर प्रकार के जीवों के लिए भोजन सामग्री उपलब्ध थी. इसलिए वहां कई प्रकार के जीव, पक्षी, मछलियां, कछुए और केकड़े आदि रहते थें. पास में ही बगुला रहता था, जिसे मेहनत करना बिल्कुल अच्छा नहीं लगता था. उसकी आंखें भी कुछ कमज़ोर थीं. मछलियां पकड़ने … Continue reading पंचतंत्र की कहानी- बगुला भगत (Panchtantra Story- Greedy crane) »

Kahani

पंचतंत्र की कहानी- तीन मछलियां (Panchtantra Story- The Three Fishes)

एक नदी के किनारे उसी नदी से जुड़ा एक बड़ा जलाशय था. जलाशय में पानी गहरा होता हैं, इसलिए उसमें काई तथा मछलियों का प्रिय भोजन जलीय सूक्ष्म पौधे उगते हैं. ऐसी जगह मछलियों को बहुत पसंद आती है. उस जलाशय में भी नदी से बहुत-सी मछलियां आकर रहती थी. अंडे देने के लिए तो … Continue reading पंचतंत्र की कहानी- तीन मछलियां (Panchtantra Story- The Three Fishes) »

new swan owl

पंचतंत्र की कहानी- झूठी शान (Panchtantra Story-The Owl and Swan)

एक जंगल में पहाड़ की चोटी पर एक किला बना था. किले के एक कोने के साथ बाहर की ओर एक बड़ा देवदार का पेड़ था. किले में उस राज्य की सेना की एक टुकड़ी तैनात थी. देवदार के पेड़ पर एक उल्लू रहता था. वह खाने की तलाश में नीचे घाटी में फैले चरागाहों … Continue reading पंचतंत्र की कहानी- झूठी शान (Panchtantra Story-The Owl and Swan) »

ek aur ek gyarah

पंचतंत्र की कहानी- एक और एक ग्यारह (Panchtantra Story-The Elephant and Sparrow)

एक बार की बात है बनगिरी के घने जंगल में एक उन्मुत्त हाथी ने भारी उत्पात मचा रखा था. वह अपनी ताकत के नशे में चूर होने के कारण किसी को कुछ नहीं समझता था. बनगिरी में ही एक पेड़ पर एक चिड़िया व चिड़े का छोटा-सा सुखी परिवार रहता थाय चिड़िया अंडों पर बैठी … Continue reading पंचतंत्र की कहानी- एक और एक ग्यारह (Panchtantra Story-The Elephant and Sparrow) »

snake

पंचतंत्र की कहानी- झगड़ालू मे़ंढक (Panchtantra Story- Frog & Snake)

एक कुएं में ढेर सारे मेंढ़क रहते थे. मे़ंढकों के राजा का नाम था गंगदत्त. वह बहुत झगड़ालू स्वभाव का था. आसपास दो-तीन और कुए थे जिनमें भी मेंढक रहते थ. हर कुएं के मेंढ़कों का अपना राजा था. हर राजा से किसी न किसी बात पर गंगदत्त का झगड़ा होता रहता था. वह अपनी … Continue reading पंचतंत्र की कहानी- झगड़ालू मे़ंढक (Panchtantra Story- Frog & Snake) »

pegion

पंचतंत्र की कहानी- एकता का बल (Panchtantra Story- Unity Is Strength)

बहुत समय पहले की बात है, कबूतरों का एक झुंड खाने की तलाश में आसमान में उड़ता हुआ जा रहा था. कुछ दूर जाने के बाद ग़लती से भटककर ये झुंड ऐसे प्रदेश के ऊपर से गुजरा, जहां भयंकर अकाल पड़ा था. कबूतरों का सरदार चिंतित हो गया. कबूतरों के शरीर की शक्ति समाप्त होती … Continue reading पंचतंत्र की कहानी- एकता का बल (Panchtantra Story- Unity Is Strength) »

Of-Crows-And-Owls

पंचतंत्र की कहानी- कौआ और उल्लू (Panchtantra Story- The Owl and The Crow)

बहुत समय पहले की बात हैं, एक जंगल में विशाल बरगद का पेड़ कौओं की राजधानी थी. हजारों कौए उस पर रहते थे. उसी पेड़ पर कौओं का राजा मेघवर्ण भी रहता था. बरगद के पेड़ के पास ही एक पहाड़ी थी, जिसमें कई गुफाएं थीं. उन गुफाओं में उल्लू रहते थे, उनका राजा अरिमर्दन … Continue reading पंचतंत्र की कहानी- कौआ और उल्लू (Panchtantra Story- The Owl and The Crow) »

Hindi Story

पंचतंत्र की कहानी- चतुर खरगोश और शेर (Panchtantra Story- The Cunning Hare and the Lion)

किसी घने जंगल में एक बहुत बड़ा शेर रहता था. वह रोज़ शिकार पर निकलता और एक-दो नहीं, कई-कई जानवरों का काम तमाम देता. जंगल के जानवर डरने लगे कि अगर शेर इसी तरह शिकार करता रहा, तो एक दिन ऐसा आएगा कि जंगल में कोई जानवर ही नहीं बचेगा. सारे जंगल में सनसनी फैल … Continue reading पंचतंत्र की कहानी- चतुर खरगोश और शेर (Panchtantra Story- The Cunning Hare and the Lion) »

Hindi Story

पंचतंत्र की कहानी- चापलूस मंडली (Panchtantra Story- Fawning coterie)

जंगल में एक शेर रहता था. उसके चार सेवक थे चील, भेड़िया, लोमड़ी और चीता. चील दूर-दूर तक उड़कर समाचार लाती. चीता राजा का अंगरक्षक था. सदा उसके पीछे चलता. लोमडी शेर की सेक्रेटरी थी. भेड़िया गृहमंत्री था. उनका असली काम तो शेर की चापलूसी करना था. इस काम में चारों माहिर थे. इसलिए जंगल … Continue reading पंचतंत्र की कहानी- चापलूस मंडली (Panchtantra Story- Fawning coterie) »

Hindi Story

पंचतंत्र की कहानी- अक़्लमंद हंस (Panchtantra Story- Clever Swan)

एक बहुत विशाल पेड़ था. उस पर वहुत सारे हंस रहते थे. उनमें एक बहुत स्याना हंस था, बुद्धिमान और बहुत दूरदर्शी. सब उसका आदर करके ‘ताऊ’ कहकर बुलाते थे. एक दिन उसने एक नन्ही-सी बेल को पेड़ के तने पर बहुत नीचे लिपटते पाया. ताऊ ने दूसरे हंसों को बुलाकर कहा “देखो, इस बेल … Continue reading पंचतंत्र की कहानी- अक़्लमंद हंस (Panchtantra Story- Clever Swan) »