मूवी रिव्यूः जबरिया जोड़ी (...

मूवी रिव्यूः जबरिया जोड़ी (Movie Review Of Jabariya Jodi)

फिल्मः जबरिया जोड़ी
कलाकारः सिद्धार्थ मल्होत्रा, परिणीति चोपड़ा, अपारशक्ति खुराना, जावेद जाफरी
स्टारः 2.5 
Jabariya Jodi Reviews

यह फिल्म बिहार और उत्तर प्रदेश में होने वाले पकड़वा विवाह पर आधारित है, जिसे हल्के-फुल्के अंदाज़ में पेश करने की कोशिश की गई है. इस फिल्म में सिद्धार्थ मल्होत्रा उर्फ अभय लड़कों को किडनैप करके उनकी शादी उन लड़कियों से करवाता है, जिनके परिवारवाले दहेज देने में असर्मथ होते हैं. अभय सिंह नेता भी बनना चाहता है, लेकिन फिर उसकी ज़िंदगी में परिणीति चोपड़ा उर्फ बबली आ जाती है.  फिल्म की कहानी अच्छी है, लेकिन इसे सही तरीक़े से एग्ज़क्यूट नहीं किया गया है.

फिल्म का फर्स्ट हाफ जहां शानदार डायलॉग्स, दिलचस्प स्टोरीलाइन और कॉमेडी से भरा रहा, वहीं सेकंड हाफ में फिल्म कमजोर पड़ जाती है.  डायरेक्टर प्रशांत सिंह अच्छे फर्स्ट हाफ को आखिर तक नहीं भुना पाए हैं. सेकंड हाफ में फिल्म हाथ से छूटती नजर आईं, इसमें कोई कनेक्शन ही नहीं बन पाया. अभय और बबली के रोमांस, उनकी सोच, स्क्रीनप्ले सब कुछ बहुत कंफ्यूजिंग लगा. जिससे फिल्म बिखरी हुई सी लगने लगती हैं.  सिद्धार्थ और परिणीति का रोमांटिक एंगल भी फिल्म को नहीं बचा पाया. अभय के शादी न करने की वजह इतनी भी बड़ी नहीं होती है कि इसे सुलझाने में डायरेक्टर को 2 घंटे 23 मिनट लग जाए. वो भी तब, जब फिल्म की स्क्रिप्ट में ज्यादा कुछ नहीं था.

Jabariya Jodi

अभिनय की बात करें तो सिद्धार्थ मल्होत्रा और परिणीति चोपड़ा ने बिहारी चरित्र मैं खुद को ढालने के लिए जी तोड़ कोशिश की मगर फिर भी बिहार में रहने वाले पंजाबी ज्यादा लगे. बिहारी बाबू के रोल के साथ वे पूरी तरह न्याय नहीं कर पाए हैं. वहीं परिणिती जैसी सहज अदाकारा की अदायगी स्टाइलिश कपड़ों और मेकअप तले दबकर रह गई. बिहार के छोटे से कस्बे में उनका (सिर्फ उनका) मॉडर्न कैंपसों और सजधज के साथ घूमना अखरता है. जावेद जाफरी और संजय मिश्रा ने अपने चरित्रों में जान डाल दी है, अपारशक्ति खुराना और चंदन रॉय सान्याल ने अच्छा काम किया है. सहयोगी कास्ट ठीक-ठाक है.

गानों की अगर बात करें तो जबरिया जोड़ी में ऐसा कोई सॉन्ग नहीं है, जिसे लंबे वक्त तक याद रखा जा सके. रोमांटिंग और आइटम नंबर होने के बाद भी दर्शकों की जुबान पर इसके गाने नहीं चढ़े. फिल्म की सिनेमेटोग्राफी अच्छी है और डायलॉग्स काफी दमदार और फनी हैं, यहीं फिल्म की सबसे अच्छी बात है. कुल मिलाकर जबरिया जोड़ी एक सामान्य फिल्म है जो शायद छोटे सेंटर्स पर दर्शकों को रास आए.
ये भी पढ़ेंः नच बलिए 9ः विशाल सिंह और मधुरिमा तुली पर गोविंदा का कमेंट, मुझे नफरत है ऐसे लोगों से