व्यंग्य- मांगने का हुनर (Satire ...

व्यंग्य- मांगने का हुनर (Satire Story- Maangane Ka Hunar)

Satire Story

आजकल सब्ज़ीवाले से धनिया-मिर्ची नहीं मांगनी चाहिए. वैसे ही पडोसी से प्यार और नेता से उपहार न मांगने में ही भलाई है. पर इसका यह अर्थ नहीं कि कहीं कुछ मांगना ही नहीं चाहिए. सुनार के पास जाएं, तो पर्स ज़रूर मांगिए, वह आपके लिए बड़ी चीज़ होगी, तो उसके लिए फ्यूचर इनवेंस्टमेंट.

कहते हैं बिन मांगे मोती मिले और मांगे मिले न भीख. अर्थ यह कि जिनके पास मांगने का हुनर होता है वे बिना कुछ बोले बस इशारों-इशारों में बड़ी से बड़ी चीज़ हासिल कर लेते हैं और जो इस कला को नहीं जानते वे छोटी-छोटी चीज़ें भी नहीं प्राप्त कर पाते.
मांगने के मामले को छोटा मत समझिए दुनिया में ऐसा कोई नहीं, जो हाथ फैलाए न खड़ा हो. क्या राजा क्या रंक सभी मंगते हैं. कोई धन-दौलत मांगता है, तो कोई औलाद, कोई सुख-चैन मांगता है, तो कोई तरक्की. किसी का काम थोड़े-बहुत से ही चल जाता है, तो कोई छप्पर फाड़ कर मांगता है. मिलना न मिलना और बात है, पर मांगना तो हक़ है. कभी वोट मांगे जाते हैं, तो कभी नोट. और कहते हैं, जब दवा काम नहीं करती तो दुआ मांगी जाती है.
वैसे रोमांटिक लोग बस साथ मांगते हैं और इज्ज़तदार लोग बडी नफासत से लडकी का हाथ मांगते हैं. समाज का आलम इतना ख़राब है कि आज लड़की का हाथ मांगने से पहले दहेज़ मांगने की फार्मेलटी की जाती है यह कहते हुए कि भाई आप जो दे रहे हैं अपनी बेटी को. अब भला बताइए जब देनेवाले की नीयत पर इतना ही भरोसा है, तो दहेज़ की लिस्ट क्यों नत्थी की जाती है.
मांगनेवालों की भारी-भरकम लिस्ट और सूची देखकर ही भजन बना है- दाता एक राम भिखारी सारी दुनिया… यदि मांगने का सिलसिला न हो, तो मदिरों की लाइन खाली हो जाए.
वैसे मांगना इतना बुरा भी नहीं है. मांगना हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है. हममें से कोई भी यह दावा नहीं कर सकता कि उसने जन्म से ही मांगने की ट्रेनिंग नहीं ली है. कहते हैं बिना रोए, तो मां भी दूध नहीं पिलाती अर्थात बच्चा जब बोलना भी नहीं जानता, तब भी मांगने की कला में पारंगत होता है.
मैं कह रहा था मांगना इतना बुरा भी नहीं होता. शहरों की बात छोड दीजिए गांव और कस्बे में बिना पास-पड़ोस से मांगे गुज़ारा नहीं चल सकता. हमारे नाना के गांव में तो मांगने की पुरानी प्रथा थी, जैसेे- लेमन सेट या टी सेट मांगना. पूरे मुहल्ले में बस एक ही टी सेट था और जब किसी के घर कोई मेहमान (मेहमान से तात्पर्य समधी के लेवल का होता है) आ जाता, तो वह लेमन सेट कहीं भी हो स्वत: उसके घर पहुंच जाता. बस, गांव में ख़बर होनी चाहिए कि फलाने के घर मेहमान आए हैं. इस मांगने का प्रभाव ही था कि किसी का भी मेहमान पूरे मुहल्ले का सम्माननीय होता था और पूरा गांव उसे बड़ी इज़्ज़त देता था. जैसे ही वह पक्की सड़क छोड़ पगडण्डी पर आता कि ख़बर हो जाती फलाने के मेहमान बस से उतर गए हैं, बस पहुंच रहे हैं. हालत यह होती कि कदम-कदम पर उसे रास्ता बतानेवाले मिलते और जगह-जगह रोक कर घडे का ठण्डा पानी पिलानेवाले. उस ज़माने में बिना मीठे के पानी पिलाना अपराध माना जाता था. कुछ नही तो ताज़ा गुड़ ही खिला कर बडे स्नेह से पानी पूछते थे लोग. और देखने वाला गांव के इस संस्कार को देख कर भाप लेता था कि जिस घर में रिश्ता कर रहे हैं वह लोग हैं कैसे. वैसे चाय, चीनी और नमक तेल मांगने का रिवाज़ शहर के पड़़ोस में भी पनपा, पर लानत है मंहगाई की कि इसने पड़ोस पड़ोस न रहने दिया. आज किसी से कुछ मांगने से पहले संकोच होने लगता है कहीं बेचारा रहीम के कहे दोहे के अनुसार शर्मिन्दा न हो जाए. यथा रहिमन वे नर मर चुके जे कछु मांगन जायें उन ते पहले वे मुये जिन मुख निकसत नाय. इस मंहगाई के जमाने में कहीं मांग कर हम पड़ोसी को धर्मसंकट में न डाल दें.
देखिए मांगने में एक बड़ा ही ख़ूबसूरत एहसाह है और विश्‍वास मानिए अपनों से अपनापन बनाए रखने के लिए उनसे कुछ न कुछ मांगते रहना चाहिए.
मैं अपनों से प्यार बनाए रखने के लिए मांगने का ज़़िक्र कर रहा था. देखिए अपनत्व बनाए रखने के लिए कुछ न कुछ ऐसा मांगते रहना चाहिए कि आप के अपनों को एहसास होता रहे कि आप उनके लिए ख़ास हैं और इतना ही नहीं आप उन्हें भी अपना ख़ास समझते हैं. ऐसे में मैं मांगने की कुछ ऐसी टिप्स दे रहा हूं, जो बडी काम आएगी और इसे देने वाला मंहगाई के जमाने में भी प्रफुिल्लत होकर देगा इसे.
सुबह उठ कर अपने बड़़ेे़े-बुजुर्गों का आशीर्वाद ज़रूर मांग लेंं. वे बेहद ख़ुुश हो जाएंगे और अपने जाननेवालों के बीच आपके गुण गाएंगे. इतना ही नहीं उन्हें इस बात की आत्मिक सन्तुष्टी होगी कि उन्होंने अपने बच्चे को बड़े अच्छे संस्कार दिए हैं.
रही दोस्तों की बात तो उन्हें अपना बनाए रखने के लिए सलाह ज़रूर मांगिए. जितने ही क़रीबी मामले में आप उनसे सलाह मांगेंगे, वे उतने ही आपसे जुड जाएंगे.
जैसा कि मैंने कहा मांगना एक हुनर हैै, सो मांगते समय सही पात्र से उचित चीज़ ही मांगनी चाहिए. ऐसा न हो कि जिसके पास जो नहीं हैै, उस से आप वही मांग बैठे और दोनों को शर्मिन्दा करें.
आजकल सब्ज़ीवाले से धनिया-मिर्ची नहीं मांगनी चाहिए. वैसे ही पडोसी से प्यार और नेता से उपहार न मांगने में ही भलाई है. पर इसका यह अर्थ नहीं कि कहीं कुछ मांगना ही नहीं चाहिए. सुनार के पास जाएं, तो पर्स ज़रूर मांगिए, वह आपके लिए बड़ी चीज़ होगी, तो उसके लिए फ्यूचर इनवेंस्टमेंट. वैसे ही जब किसी बड़े आदमी से कुछ मांगने का अवसर पड़ेे, तो सुदामा भाव में आ जाइए अर्थात छोटी-छोटी भावनात्मक मुद्राएं अपनाइए और उसे कृष्ण भाव का एहसास कराते रहिए. और तब-जब आप वहां से वापस लौटेंगे तो उम्मीद से दुगना पा चुके होंगे.
नई पीढ़ी से मोबाइल और इंटरनेट चलाने की टिप्स मांगना मत भूलिए. ससुराल में साली का प्यार बिन मांगे मिला हुआ मुफ़्त उपहार है, पर ऐसे उपहार को ज़रा सम्हाल कर रखना चाहिए, वर्ना लेने के देने पड़ जाते हैं.
रहा उधार मांगने का सवाल, तो बडे-बुजुर्ग पहले ही कह गए हैं उधार प्रेम की कैंची है, सो आजकल ऐसे मौक़े पर बैंक के ऐजेंट को याद करना चाहिए. मुझे विश्वास है कि अब आप जब अपने विवेक का इस्तेमाल कर सही पात्र से सही चीज़ मांगेंगेे, तो निराश नहीं होंगे और जीवन में मांगने की कला को अपनाकर नज़दीकी बढ़़ाने में सक्षम होंगे.

Murali Manohar Srivastava
मुरली मनोहर श्रीवास्तव


यह भी पढ़ें: व्यंग्य- सूर्पनखा रिटर्न (Satire Story- Surpnakha Return)

×