टेस्टी अंगूर के 14 आश्‍चर्यजनक फ़ायदे (14 Amazing Health Benefits of grapes)

Health Benefits of grapes
मीठे अंगूर के दाने न स़िर्फ खाने में स्वादिष्ट होते हैं, बल्कि ये सेहत का खज़ाना भी है. आपको हेल्दी रखने के साथ ही अंगूर आपकी त्वचा और बालों के लिए भी फ़ायदेमंद होता है. इंस्टेंट एनर्जी के लिए भी आप अंगूर का सेवन कर सकते हैं.

* ब्रेस्टफीट कराने वाली महिलाओं को रोज़ाना क़रीब 100 ग्राम अंगूर खाना चाहिए. इससे दूध बढ़ता है है.

* कब्ज़ की वजह से सिरदर्द, चक्कर जैसी समस्याएं हो रही हैं, तो इससे राहत के लिए रोज़ाना नियमित रूप से 25 ग्राम अंगूर का रस पीएं.

* एसिडिटी होने पर 25-25 ग्राम अंगूर और सौंफ को रातभर 250 मि.ली. पानी में भिगोकर रखें. सुबह उसे मसलकर छान लें. फिर उसमें 10 ग्राम शक्कर मिलाकर पीएं. कुछ दिनों तक नियमित रूप से ऐसा करने से एसिडिटी से राहत मिलेगी.

* यदि आपको कमज़ोरी महसूस हो रही है, तो 25 ग्राम अंगूर खाएं और उसके बाद आधा लीटर दूध पीएं. इससे कमज़ोरी दूर होगी.

* पेशाब में गर्मी की समस्या होने पर 50 ग्राम काले अंगूर को रातभर ठंडे पानी में भिगोकर रखें. सुबह मसलकर छान लें. फिर इसमें थोड़ा-सा जीरा चूर्ण मिलाकर पीएं. इससे पेशाब की गर्मी दूर होगी.

* पत्थरी दूर करने में अंगूर फ़ायदेमंद होता है. अंगूर के बीज को पीसकर चूर्ण बना लें. इसे फांककर ऊपर से एक ग्लास दूध पीएं. ऐसा करने से पथरी गलकर बाहर आ जाएगी.

* अंगूर में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स शरीर को न केवल कैंसर से, बल्कि हार्ट डिसीज़, नर्व डिसीज़, अल्ज़ाइमर, वायरल और फंगल इंफेक्शन से लड़ने की ताकत देते हैं.

* प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फैट, सोडियम, फाइबर, विटामिन ए, सी, ई, के, कैल्शियम, कॉपर, मैग्नीशियम, मैंग्नीज़, जिंक और आयरन के गुणों से भरपूर अंगूर में कैलोरी मात्रा बहुत कम होती है.

* शरीर के किसी भी हिस्से से ख़ून निकलने पर एक ग्लास अंगूर के जूस में दो चम्मच शहद घोलकर पिलाने से ख़ून की कमी दूर हो जाती है और ख़ून बहना बंद हो जाता है.

* अंगूर में ग्लूकोज़ व विटामिन ए पर्याप्त मात्रा में होता है, इसलिए अंगूर खाने से भूख बढ़ती है और पाचन शक्ति ठीक रखती है. अंगूर आंखों, बालों व त्वचा को भी शाइनी बनाता है.

* अंगूर फाड़े-फुंसियों व पिंपल्स को सुखाने में मदद करता है. अंगूर के रस से गरारे करने से मुंह छालों से राहत मिलती है.

* एनीमिया के मरीज़ों के लिए अंगूर बेस्ट मेडिसीन है. उल्टी आने व जी मिचलाने पर अंगूर पर थोड़ा नमक व कालीमिर्च डालकर खाएं.

* 20-25 अंगूर को रात को पानी में भिगों दें. सुबह इन्हें मसलकर निचोडें और इस रस में शक्कर मिलाकर पीएं. पेट की गर्मी दूर हो जाएगी.

* खाने के आधा घंटे बाद अंगूर का रस पीने से खून बढता है और कुछ ही दिनों में पेट फूलना, बदहजमी जैसी बीमारियां दूर हो जाती हैं.

हेल्थ भी  टेस्ट भी

अंगूरी शरबत
500 ग्राम शक्कर और 750 मि.ली. पानी को मिलाकर दो तार की चाशनी तैयार कर लें. 500 ग्राम अंगूर को धो लें और पीस कर रस निकाल लें. इस रस को चाशनी में मिला दें और धीमी आंच पर 1-2 उबाल आने तक पकाएं. ठंडा होने पर इस घोल को बोतल में डालकर रख दें. एक ग्लास में 4 टीस्पून तैयार शरबत डालें और ठंडा पानी मिलाकर सर्व करें.

अंगूर का मुरब्बा
250 ग्राम ताज़े अंगूर पर नमक और आधा किलो शक्कर लगाकर रखें. पानी में शक्कर मिलाकर दो तार की चाशनी तैयार करें. जब यह ठंडा हो जाए तो इसमें आधा टीस्पून ब्लैक करंट एसेंस, 2 बूंद पर्पल कलर, अंगूर व 100 ग्राम किशमिश डालें. 24 घंटे तक ऐसे ही रहने दें. 1/4 टीस्पून सिट्रिक एसिड डालकर जार में भर दें.