साइबर लॉ एक्सपर्ट: चुनौतीभरा करियर (make career in cyber law)

cyber law career
जिस तरह से देश में इंटरनेट का विस्तार हो रहा है, उसी तरह साइबर क्राइम भी बढ़ रहा है. साइबर क्राइम से निपटने के लिए आज साइबर लॉ एक्सपर्ट की डिमांड बढ़ गई है. साइबर लॉ एक बेहद अहम और नया क्षेत्र है, जहां आप अपनी क़िस्मत आज़मा सकते हैं. कंप्यूटर से लगाव और नई-नई टेक्नोलॉजी के प्रति जागरूक लोग इस क्षेत्र में अपना कौशल दिखा सकते हैं. इस क्षेत्र में करियर बनाने के लिए कैसे करें शुरुआत? आइए, जानते हैं.

शैक्षणिक योग्यता
साइबर लॉ में करियर बनाने के लिए कम से कम 12वीं या स्नातक(ग्रैज्युएट) होना बहुत ज़रूरी है. पहले से आईटी या लॉ की पढ़ाई कर चुके लोग इसे अलग से पढ़ सकते हैं.

तकनीकी योग्यता
इस क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिए तकनीकी तौर पर चुस्त-दुरुस्त रहना बहुत ज़रूरी है. साइबर
अपराधियों द्वारा भेजे गए कोड को तोड़ने की क्षमता और वो कहां से मैसेज भेज रहा है? आदि सूचनाएं एकत्रित करना बख़ूबी आना चाहिए.

क्या हैं कोर्सेस?
इस क्षेत्र में करियर बनाने के इच्छुक पीजी डिप्लोमा, डिप्लोमा या सर्टीफिकेट कोर्स कर सकते हैं. हालांकि बहुत कम संस्थान हैं जहां इसके लिए अलग से कोर्स कराए जाते हैं, लेकिन अधिकतर संस्थानों में इसके संबंधित एक या दो विषय पढ़ाए जाते हैं.

कोर्स के दौरान
इस कोर्स के अंतर्गत साइबर लॉ और साइबर सिक्योरिटी से जुड़ी मूल बातें, नेटवर्क सुरक्षा, हमलों के प्रकार, नेटवर्क सिक्योरिटी के ख़तरे, हमले और ख़ामियां, सुरक्षा संबंधि समाधान और उन्नत सुरक्षा प्रणाली आदि विशेष रूप से पढ़ाए जाते हैं.

प्रमुख संस्थान
* डिपार्टमेंट ऑफ लॉ, दिल्ली यूनिवर्सीटी.
* एमिटी लॉ स्कूल, दिल्ली.
* आईएमटी, गाज़ियाबाद.
* नेशनल लॉ यूनिवर्सीटी, जोधपुर.
* स्कूल ऑफ लीगल स्टडीज़, शिमला.
* फैकल्टी ऑफ लॉ, लखनऊ यूनिवर्सीटी, लखनऊ.
* पश्‍चिम बंगाल नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ज्यूडिशियल साइंस, कोलकाता.
* इंडियन लॉ इंस्टीट्यूट, नई दिल्ली.
* इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, इलाहाबाद.

व्यक्तिगत विशेषता
साइबर लॉ में करियर बनाने के लिए आपको आईटी स्पेशलिस्ट होने की ज़रूरत नहीं, लेकिन टेक्नीकल नॉलेज के साथ लीगल नॉलेज होना बहुत ज़रूरी है. साइबर लॉ एक्सपर्ट के लिए बहुत ज़रूरी है कि वो हमेशा नए-नए नियम व क़ानून को जानने के लिए तत्पर हों.

रोज़गार के अवसर
साइबर क्राइम का क्षेत्र बढ़ता जा रहा है. रोज़गार के अवसर देश से विदेश तक हैं. साइबर लॉ एक्सपर्ट सरकारी, निजी बैंकिंग सेक्टर, बीपीओ, आईबी, आईटी, शिक्षण संस्थान आदि जगह नौकरी कर सकते हैं. इसके अलावा बड़े-बड़े प्राइवेट फर्म भी निजी तौर पर साइबर लॉ एक्सपर्ट को अप्वाइंट करते हैं. इसके साथ ही एयरलाइंस, हेल्थकेयर, ट्रांसपोर्टेशन, इनफ्रास्ट्रक्चर, इमर्जेंसी रिस्पॉन्स सिस्टम आदि जगह भी क़िस्मत आज़मा सकते हैं.

सैलरी
साइबर लॉ स्पेशलिस्ट की डिमांड तेज़ी से बढ़ रही है. इसके साथ ही इसमें सैलरी भी बहुत ज़्यादा मिलती है. शुरुआत में प्रतिमाह 15-20 हज़ार मिलते हैं. इसके बाद सैलरी की कोई सीमा नहीं. बड़े-बड़े फर्म लाख रुपए महीने भी साइबर लॉ एक्सपर्ट को देते हैं. इस क्षेत्र में फ्रीलांस काम करके भी आप मनमुताबिक पैसा कमा सकते हैं.
यदि आप साइबर क्राइम में आगे अपना करियर बनाना चाहते हैं, तो भविष्य में चुनौतियों के लिए तैयार रहें. इस जॉब में आपको हर दिन नए-नए अनुभव होना लाज़मी है. ऐसे में हाई टेक्नोलॉजी से संबंधित क्षमता के साथ-साथ सामने वाले की मानसिक स्थिति और उसके मकसद को समझना आना चाहिए.

इस क्षेत्र में काम करने का समय निश्‍चित नहीं होता. कई बार रात-रात काम करना पड़ता है और फिर भी मनमुताबिक सफलता नहीं मिलती. यह एक नया क्षेत्र है. ऐसे में पिछली व नई सूचनाओं की उपलब्धता कम होने के कारण कई बार काम पूरा करने में कई तरह की मुश्किलें आती हैं.

भारत में लगातार साइबर क्राइम की घटनाएं बढ़ रही हैं. इस क्षेत्र में सिक्योरिटी इंजीनियर्स की कमी है. माना जा रहा है कि यहां अभी क़रीब 5 लाख से ज़्यादा साइबर लॉ एक्सपर्ट की ज़रूरत है.

श्वेता सिंह