जानें डिजिटल पेमेंट्स की एबीसी (Different Methods And Benefits Of Digital Payments In India)

किसी को पैसे ट्रांसफर (Money Transfer) करने हों, कोई बिल भरना हो या फिर इंवेस्टमेंट करना हो, सब कुछ अब मुमकिन है चुटकियों में. जी हां, डिजिटल पेमेंट (Digital Payments) से अब हर तरह के फाइनेंशियल ट्रांज़ैक्शन्स (Financial Transactions) करें अपने मोबाइल से और बन जाएं फाइनेंशियली और टेक्नीकली स्मार्ट.

Benefits Of Digital Payments

डिजिटल पेमेंट्स के फ़ायदे

–     न लाइन में खड़े होने का झंझट और न ही कार्ड से पैसे निकालने की समस्या, बस अपने मोबाइल फोन से किसी भी दिन, किसी भी समय डिजिटल पेमेंट्स करें. फास्ट, सुविधाजनक और आसान ट्रांज़ैक्शन्स से बेहतर भला किसी ग्राहक के लिए और क्या हो सकता है.

–     डिजिटल पेमेंट आपके लिए काफ़ी किफ़ायती भी है, क्योंकि बहुत से मोबाइल वॉलेट्स और यूपीआई पर आपको न तो कोई सर्विस टैक्स देना पड़ता है और न ही कोई प्रोसेसिंग फीस यानी हर तरह से टैक्स की बचत.

–     आप अपने सारे ट्रांज़ैक्शन्स एक ही जगह से कर सकते हैं और वो भी पूरी तरह सिक्योर होकर.

–     बहुत से वॉलेट्स और बैंकिंग ऐप्स अपने ग्राहकों को कई डिस्काउंट ऑफर्स व कैशबैक देते हैं. कैशलेस होने का इससे अच्छा फ़ायदा और क्या हो सकता है.

–     इतना ही नहीं अपने ट्रांज़ैक्शन्स के बारे में किसी भी तरह की जानकारी आप कभी भी कहीं से भी ले सकते हैं, क्योंकि ऑनलाइन सब कुछ मौजूद है.

–     ये सभी तरी़के काफ़ी सिक्योर बनाए जाते हैं, ताकि फ्रॉड होने की गुंजाइश बिल्कुल न रहे, जैसे- अगर आपका कार्ड चोरी हो गया, तो आप उसे तुरंत ब्लॉक कर सकते हैं, बेवजह अकाउंट से पैसे कट गए,

तो तुरंत रिफंड के लिए अप्लाई कर सकते हैं आदि.

डिजिटल पेमेंट के तरी़के

डिजिटल ट्रांज़ैक्शन्स पर ज़ोर देने के लिए सरकार ने डिजिटल पेमेंट के लिए कई बेहतरीन विकल्प मुहैया कराए हैं. इस समय डिजिटल पेमेंट के लिए विकल्पों की भरमार है, ऐसे में आपके लिए कौन-सा विकल्प ज़्यादा सुविधाजनक है आइए देखते हैं.

बैंकिंग कार्ड्स

–     डेबिट कार्ड हो, क्रेडिट कार्ड या फिर प्री पेड बैंक कार्ड सभी की अपनी-अपनी ख़ूबियां हैं. इन कार्ड्स की मदद से आप मनपसंद शॉपिंग करें, घूमें-फिरें, खाएं-पीएं और कहीं भी कैश देने का कोई झंझट नहीं.

–     इसके अलावा कहीं भी कोई ऑनलाइन ट्रांज़ैक्शन करने के लिए आपको बस अपने कार्ड की डिटेल्स वहां भरनी होगी और चुटकियों में किसी को पैसे ट्रांसफर करना या कोई बिल भरना या फिर इंवेस्टमेंट आप आसानी से कर सकते हैं.

–     वीज़ा, रुपए और मास्टरकार्ड जैसे कार्ड्स से पेमेंट पर आपको काफ़ी कैशबैक और डिस्काउंट भी मिलते हैं.

अनस्ट्रक्चर्ड सप्लीमेंट्री सर्विस डाटा (USSD)

–     इसके ज़रिए अपने मोबाइल से बिना कोई ऐप डाउनलोड किए आप फाइनेंशियल ट्रांज़ैक्शन्स कर सकते हैं.

–     इसके लिए न तो डाटा की ज़रूरत है और न ही स्मार्टफोन की.

–     यह सुविधा ख़ासतौर से ग़रीब तबके के लोगों को डिजिटल पेमेंट से जोड़ने के लिए बनाई गई है.

–     इसके लिए आपको अपने मोबाइल से *99ञ्च् डायल करना होगा और आप फंड ट्रांसफर, बैंक स्टेटमेंट और अकाउंट बैलेंस जैसी सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं.

–     यह सुविधा हिंदी भाषा में भी उपलब्ध है.

यह भी पढ़ें: क्या आपके पास हैं ये बेस्ट एंटीवायरस ऐप्स? (Best Antivirus Apps For Android Phones)

Benefits Of Digital Payments
आधार इनेबल्ड पेमेंट सिस्टम (AEPS)

–     बैंकिंग से जुड़ी सभी सुविधाएं, जैसे- बैलेंस इंक्वायरी, कैश विड्रॉअल, कैश डिपॉज़िट, पेमेंट ट्रांज़ैक्शन्स और आधार टु आधार फंड ट्रांसफर आप आसानी से कर सकते हैं.

–     बैंक का प्रतिनिधि आपके लिए ये सारे काम करेगा और आपको न ब्रांच जाना होगा और न ही किसी डॉक्यूमेंट पर साइन करना होगा. बस, आपका आधार आपके बैंक अकाउंट से लिंक

होना चाहिए.

यूनीफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (UPI)

–     इसके लिए आपको यूपीआई ऐप अपने मोबाइल में डाउनलोड करना होगा, जिसके ज़रिए आप अपने सभी फाइनेंशियल ट्रांज़ैक्शन्स कर सकते हैं.

–     इसकी मदद से आप अपने सभी बैंक अकाउंट इसमें लिंक करके अपनी सुविधानुसार हर तरह के डिजिटल पेमेंट्स कर सकते हैं.

–     इसकी एक ख़ासियत यह भी है कि अगर आपको किसी का अकाउंट नंबर पता नहीं, तो उसके वर्चुअल पेमेंट एड्रेस (वीपीए नंबर) से भी ट्रांज़ैक्शन्स कर सकते हैं.

–     गूगल पे (तेज़), पेटीएम, फोनपे, चिल्लर और भीम कुछ बेहद लोकप्रिय यूपीआई ऐप्स हैं.

मोबाइल वॉलेट्स

–    ये वर्चुअल वॉलेट्स होते हैं, जिसे आप ऐप डाउनलोड करके भी इस्तेमाल कर सकते हैं.

–     मोबाइल वॉलेट में आप अपने बैंक डिटेल्स के अलावा डेबिट और क्रेडिट कार्ड की जानकारी सेव कर सकते हैं.

–     साथ ही इंटरनेट बैंकिंग के ज़रिए अपने फाइनेंशियल ट्रांज़ैक्शन्स पूरे कर सकते हैं. मोबाइल वॉलेट में आप पैसे भी जमा करके रख सकते हैं, इससे ट्रांज़ैक्शन आसान हो जाता है.

–     अपने ग्राहकों को अतिरिक्त सुविधाएं देने के लिए बहुत से बैंकों ने अपने ई-वॉलेट शुरू किए हैं, इसमें एसबीआई का योनो, आईसीआईसीआई पॉकेट्स और एचडीएफसी पेज़ैप कुछ टॉप के वॉलेट्स हैं.

–     इसके अलावा पेटीएम, ऐमज़ॉन पे, फोन पे, गूगल पे आदि बेहद लोकप्रिय वॉलेट्स हैं.

बैंक प्रीपेड कार्ड्स

–     डिजिटल पेमेंट की दुनिया में यह एक नया और अनूठा पेमेंट सिस्टम है.

–     अपने बैंक से आप गिफ्ट कार्ड, मील कार्ड, पे डायरेक्ट और ट्रैवेल जैसे प्रीपेड कार्ड ले सकते हैं.

–     ज़रूरी नहीं कि ये आपके अकाउंट से जुड़े हुए हों. इसमें आपको पैसे डालने पड़ते हैं. यह प्री पेड मोबाइल जैसा है, पैसे भरें और इस्तेमाल करें.

–     ज़्यादातर बड़ी कंपनियां ये कार्ड अपने कर्मचारियों को देती हैं या फिर उनकी सैलेरी और अन्य ज़रूरी पेमेंट्स के लिए इनका इस्तेमाल करती हैं.

इंटरनेट बैंकिंग

–     ऑनलाइन बैंकिंग, ई-बैंकिंग या वर्चुअल बैंकिंग को ही हम इंटरनेट बैंकिंग कहते हैं.

–     इसके ज़रिए आप बैंकिंग से जुड़े सभी काम, जैसे- फंड ट्रांसफर करना, फिक्स्ड या रिकरिंग अकाउंट खोलना, पीपीएफ अकाउंट खोलना ऑनलाइन कर सकते है.

–     नेफ्ट, आरटीजीएस या आईएमपीएस आप ऑनलाइन कर सकते हैं. इससे आप तुरंत मनी ट्रांसफर कर सकते हैं या फिर चाहें तो अगले दिन या अगले हफ़्ते के लिए शेड्यूल भी कर सकते हैं.

–     इसके अलावा जीवन बीमा की पॉलिसी भरने से लेकर सभी बिल के पेमेंट करने जैसे काम आप आसानी से कर सकते हैं.

मोबाइल बैंकिंग

–     साल 2002 में मोबाइल बैंकिंग की शुरुआत हुई थी और तब सारे ट्रांज़ैक्शन्स एसएमएस के ज़रिए होते थे.

–     मोबाइल बैंकिंग ने कंप्यूटर और लैपटॉप की ज़रूरत को दरकिनार कर दिया, अब आप अपने मोबाइल से ही सारे डिजिटल पेमेंट्स कर सकते हैं.

–     किसी वॉलेट, यूपीआई या अपने बैंक का ऐप डाउनलोड करके भी आप सारे फाइनेंशियल ट्रांज़ैक्शन्स कर सकते हैं.

– सुनीता सिंह

यह भी पढ़ें:  इन 10 तरीक़ों से अपने स्लो मोबाइल को बनाएं फास्ट (10 Smart Tricks To Speed Up Your Android Phone)