हैप्पी बर्थडे ‘विराट’ कप्ता...

हैप्पी बर्थडे ‘विराट’ कप्तान (Happy Birthday ‘Virat’ Captain)

विराट… नाम में ही समाहित हैं उपलब्धियां. एक ऐसा शख़्स, जिसने कभी हार नहीं मानी. एक रन मशीन की तरह दनादन रन बनाकर सारे रिकॉर्ड्स ब्रेक किए जा रहा है. मेरी सहेली की पूरी टीम की ओर से इस हैंडसम, डैशिंग एंड अग्रेसिव रन मशीन को जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाइयां. कम उम्र और अग्रेशन स़िर्फ यही पहचान नहीं है विराट की. लाइफ को ज़िंदादिली से जीना और गेम के लिए पैशनेट होना, ये बातें आप केवल विराट में ही देख सकते हैं.

Virat-kohli5

विराट से बन गए रन मशीन
अपने पहले वनडे मैच में विराट ने केवल 12 रन बनाए. उस व़क्त भी विराट के अग्रेशन में कोई कमी नहीं थी, लेकिन उनके बल्ले से रन नहीं निकले. उस मैच में 12 रन बनाने वाले विराट आज वनडे मैचों में 7 हज़ार से ज़्यादा रन बना चुके हैं. मैदान पर इतनी तेज़ रन बनाते हैं कि उन्हें लोग रन मशीन कहने लगे.

2_96_0

दादा का नेक्स्ट वर्ज़न
क्रिकेट खेलना और विरोधी टीम पर अपना दबदबा बनाए रखना, दोनों अलग बात है. मैदान पर विरोधियों को उन्हीं की भाषा में जवाब देना अगर किसी भारतीय कप्तान ने किया, तो वो थे दादा यानी सौरव गांगुली. गांगुली के बाद टीम की कमान संभालने वाले धोनी का व्यक्तित्व ठीक इसके विपरीत था, लेकिन जैसे ही कमान विरोट कोहली के हाथों में आई टीम का नज़ारा ही बदल गया. मैदान पर विराट ठीक उसी तरह पेश आते हैं, जैसा कि सौरव आते थे. क्रिकेट के जानकार विराट को दादा का नेक्स्ट वर्ज़न कहने लगे हैं.

13332

जब पिता की डेथ के बाद भी मैच खेलना नहीं छोड़ा
कामयाबी हासिल करने के लिए बहुत कुछ खोना पड़ता है. विराट को भी कुछ ऐसा ही फेस करना पड़ा. दिल्ली और कर्नाटक के बीच रणजी ट्रॉफी का मैच चल रहा था. तभी सुबह के 3 बजे विराट को ये बताया गया कि उनके पिता प्रेम कोहली की मृत्यु हो चुकी है, इसलिए उन्हें सुबह मैच खेलने की बजाय घर जाना चाहिए. दिल्ली टीम कर्नाटक से पिछड़ रही थी. टीम के सभी खिलाड़ियों को सूचित कर दिया गया था कि विराट अगली सुबह मैच नहीं खेलेंगे, लेकिन सुबह के समय विराट को ड्रेसिंग रूम में देखकर सभी की आंखें भर आईं. विराट का विराट जज़्बा देखकर पूरी टीम हैरान थी. विराट उस मैच में 90 रन बनाए और अपनी टीम को मज़बूत स्थिति में पहुंचाकर लंच से पहले आउट होने के बाद अपने पिता के अंतिम दर्शन के लिए गए. उसी दिन विराट ने क्रिकेट जगत को ये बता दिया था कि क्रिकेट में वो बहुत आगे जाएंगे. 18 साल का वो युवा एक ही रात में एक मैच्योर खिलाड़ी बन गया था.

हॉटनेस के बादशाह
क्रीज़ पर अपनी बैटिंग, फील्डिंग एंड सो मच एटीट्यूड के चलते हमेशा सुर्खियों में बने रहने वाले विराट मैदान के बाहर हॉट टॉपिक की तरह ट्रेंड करते हैं. लड़कियों के दिलों पर विराट की दीवानगी का मंज़र कुछ इस तरह रहता है कि वो अपने बॉयफ्रेंड की बजाय मोबाइल वॉलपेपर और फेसबुक पर प्रोफाइल पिक्चर विराट को ही बनाती हैं. शायद यही वजह है कि अपने सिक्स पैक्स को सोशल साइट्स पर शो करने सेविराट बिल्कुल नहीं हिचकिचाते, क्योंकि आज की तारीख़ में वो क्रिकेट के ही नहीं, फिटनेस के भी बादशाह हैं.

– श्वेता सिंह