काव्य- एक-दूसरे के मौन में…...

काव्य- एक-दूसरे के मौन में… (Kavya- Ek-Dusare Ke Maun Mein…)

कभी-कभी
मैं कुछ नहीं भी कहती हूं
तुम
तब भी सुन लेते हो..
कैसे!

कभी-कभी
मैं कुछ कहती हूं
तुम समझते कुछ और ही हो
पता नहीं, क्यों!

कभी-कभी
तुम कहते तो हो
पर, मैं समझना ही नहीं चाहती!

कभी-कभी
बहुत कुछ कहते-सुनते हैं
हम-दोनों
एक-दूसरे के मौन में
और
करते रहते हैं
मन की बात…

Namita Gupta 'Mansi
नमिता गुप्ता ‘मनसी

यह भी पढ़े: Shayeri

Kavya