पहला अफेयर: गुज़ारिश (Pahla Affair: Guzarish)

Pahla Affair, Guzarish

पहला अफेयर: गुज़ारिश (Pahla Affair: Guzarish)

नहीं जानती कि मैं क्यों तुम्हारे बारे में सोचती हूं. मेरे ख़्यालों में हर वक़्त तुम्हीं रहते हो. मुझे आज भी याद है, वो पहला एहसास जब मैंने पहली बार तुम्हें देखा था. मेरा आईडी कार्ड कहीं गिर गया था. मैं उसे हर जगह ढूंढ़ चुकी थी और परेशान हो रही थी, तभी तुम आए और मेरा आईडी कार्ड मुझे देकर चले गए. तुम्हारी स्मार्टनेस मेरे मन पर गहरी छाप छोड़ चुकी थी. एक सहेली से पता चला कि तुम मुझसे सीनियर यानी एमएससी सेकंड ईयर के छात्र थे.

उस दिन के बाद से मेरी नज़रें कॉलेज में अक्सर तुम्हें तलाश करने लगी थीं. तुम अक्सर दिख ही जाते थे. तुम्हारी पर्सनैलिटी मुझे अपनी तरफ़ आकर्षित करने लगी थी. जब कभी तुम मेरे सामने होते थे, मेरी नज़रें अनायास ही तुम्हारी तरफ़ उठ जाती थीं. पर अगले ही पल दिमाग़ यह एहसास कराता कि एक लड़की का किसी को इस तरह देखना ठीक नहीं. लोग क्या कहेंगे? और मेरी नज़रें झुक जातीं. पर दिल को कहां परवाह थी किसी की? नज़रें फिर तुम्हारी तरफ़ उठतीं और झुक जातीं. जब तक तुम सामने होते दिल और दिमाग़ का ये द्वंद्व चलता ही रहता.

एक दिन बस का इंतज़ार करते वक़्त एक छोटा बच्चा आकर भीख मांगने लगा. तुमने उसे दुकान पर ले जाकर भरपेट खाना खिलाया. उस दिन मैंने तुम्हारे अंदर की ख़ूबसूरती भी देखी थी. मैं अपनी सहेली निशा से अक्सर तुम्हारी बातें करती थी. एक दिन वह मुझे छेड़ते हुए बोली, लगता है, वह तुझे कुछ ज़्यादा ही पसंद है. मैंने कहा, नहीं, वह तो चांद है जिसे स़िर्फ दूर से देखा जा सकता है, हाथों में नहीं लिया जा सकता. वह बोली, लोग चांद पर घर बनाने की सोच रहे हैं और तू पुराने ख़्यालों में अटकी पड़ी है. मैं उसके बारे में पता करूंगी और फिर तुम दोनों प्रो़फेसर बन इसी कॉलेज में साथ-साथ पढ़ाना. ये बातें उसने मज़ाक में ही कही थीं, पर अनजाने में ही उसने हमारे अनजाने रिश्ते की नींव रख दी थी.

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: ख़्वाबों की डोर… (Pahla Affair: Khwabon Ki Dor)

अब न जाने क्यों मैं तुम्हें ख़ुद से जोड़ने लगी थी. फिर निशा ने ही मुझे बताया कि तुम उसी कॉलेज के किसी प्रो़फेसर के बेटे होे. अब निशा मुझसे बार-बार कहने लगी कि अपने मन की बात उससे कह दे, पर न जाने क्यों मैं रुक जाती थी. शायद तुम्हारा स्टेटस मुझे रोक देता था. तुम एक अमीर प्रो़फेसर के बेटे और मैं एक लोअर मिडल क्लास की लड़की. मुझे डर था कि तुम मुझे ठुकरा न दो.

और फिर वो वक़्त भी आ गया, जिसके बारे में सोचकर डर लगता था. तुम्हारी विदाई का वक़्त. हम फ़र्स्ट ईयर वालों ने सेकंड ईयर के स्टूडेंट्स के लिए फेयरवेल पार्टी रखी थी, जिसमें मुझे एंकरिंग करनी थी. सुबह तैयार होते वक़्त भी तुम मेरे ख़्यालों में थे. आज मेरे पास आख़िरी मौक़ा था तुमसे अपने मन की बात कहने का, पर मैंने इसे गवां दिया, क्योंकि मेरे स्वाभिमान ने मुझे रोक दिया. मुझे आज भी याद है, वो बेचैनी, वो बेक़रारी तुम्हें न देख पाने की, जो उस शाम घर लौटते वक़्त मेरे दिलो-दिमाग़ पर छाई हुई थी. एक अनजाने से दर्द ने मुझे सारी रात सोने नहीं दिया. एक्ज़ाम्स के बाद प्रैक्टिकल के दिन जब मैं कॉलेज पहुंची तो तुम्हें बरामदे में खड़े देखकर आंखों पर यक़ीन नहीं हुआ, क्योंकि मैं तो तुमसे दोबारा मिलने की आस भी छोड़ चुकी थी. तुमने भी मेरी तरफ़ देखा और इस बीच मेरी आंखों ने बहुत कुछ बयां कर दिया था तुमसे.

अब मैं अपने शहर वापस आ गई हूं, तुम्हारी यादों को अपने दिल में संजोए हुए. अब शायद कुछ सालों तक मैं तुम्हें न देख पाऊं. जानते हो मेरा रिज़ल्ट आ चुका है. मैं क्लास में सेकंड हूं और वह प्रैक्टिकल, जिसमें तुम मेरे सामने थे, उसमें मेरे सबसे अधिक मार्क्स हैं. शायद तुम मेरी प्रेरणा भी हो. मैं इतने दिनों तक तुमसे कुछ न कह पाई, पर एक दिन अपने मन की बात तुमसे ज़रूर कहूंगी. उस दिन मिट जाएंगी हमारे बीच की सारी दूरियां और गिर जाएंगी सारी दीवारें. ये यक़ीन है मुझे ख़ुद पर और अपनी क़िस्मत पर भी. तब तक तुम मेरा इंतज़ार करना, यही गुज़ारिश है तुमसे.

– सारिका सोनी

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: तुम बिन… अधूरी मैं! (Pahla Affair: Tum Bin… Adhuri Main)