राई के 21 प्रभावकारी फ़ायदे (21 Impressive Benefits Of Mustard)

 

Benefits Of Mustard

सब्ज़ी में छौंक के रूप में अधिकतर इस्तेमाल की जानेवाली राई के कई औषधीय गुण भी हैं. यह बहुत ही गुणकारी और पाचक है. यह कफ़ व पित्त को दूर करने में भी सहायक है. राई से खुजली, पेट के कीड़े व कोढ़ की बीमारी तक दूर होती है.

* राई को बारीक़ पीसकर पेट पर लेप करने से उल्टी तुरंत बंद हो जाती है.
* आधा टीस्पून राई में थोड़ी-सी शक्कर मिलाकर खाने और ऊपर से एक कप पानी पीने से पेटदर्द दूर होता है.
* राई के तेल में नमक मिलाकर दांत साफ़ करें. इससे दांत एवं मसूड़े स्वस्थ और मज़बूत होते हैं.
* राई पीसकर सूंघने से ज़ुकाम जल्द दूर हो जाता है. ज़ुकाम की वजह से पैर ठंडे हो जाने पर राई का लेप करना भी लाभदायक होता है.
* वात-व्याधि से जकड़ गए अंगों पर राई की पुल्टिस बांधने या राई का प्लास्टर करने से लाभ होता है.
* गुड़, गुग्गुल और राई को पीसकर पानी में उबालकर लेप करने से कंखवारी (कांख का फोड़ा) मिटती है.
* राई के पाउडर को गाय के पुराने घी में मिलाकर उसका लेप करने से थोड़े दिनों में स़फेद कोढ़ मिट जाता है. इसी लेप से खाज-खुजली और दाद में भी फ़ायदा होता है.
* मिर्गी-मूर्च्छा में राई के पाउडर का नस्य दिया जाता है.
* राई का तेल कान में डालने से कान का दर्द, फोड़े-फुंसी की समस्या दूर होती है.
* यदि घबराहट, बेचैनी के साथ कंपन महसूस हो, तो राई को पीसकर हाथ व पैरों पर मलें, तुरंत आराम मिलेगा.

यह भी पढ़े: ख़रबूजा के 10 अमेजिंग न्यूट्रीशियस हेल्थ बेनेफिट्स

यह भी पढ़े: प्रेग्नेंसी में होनेवाली उल्टी में राहत के लिए 9 प्रभावकारी होम रेमेडीज़

* आधा टीस्पून राई में थोड़ा-सा सेंधा नमक और शक्कर मिलाकर सुबह-शाम सेवन करने से खांसी में कफ़ गाढ़ा हो गया हो, तो पतला होकर सरलता से निकल जाता है.
* कांटा या कांच चुभ जाए, तो राई को पीसकर उसमें घी और शहद मिलाकर लेप करने से वो आसानी से निकल जाता है.
* मसूड़ों की तकलीफ़ में एक लीटर पानी में एक टीस्पून राई मिलाकर अच्छी तरह से उबालकर थोड़ा-सा सेंधा नमक मिला लें. फिर हल्का ठंडा करके इससे कुल्ला करें.
* किसी भी तरह की गांठ बढ़ रही हो, तो राई व कालीमिर्च समान मात्रा में पीसकर उसमें घी मिलाकर लेप करें.
* कफ़युक्त खांसी में राई को पीसकर शहद के साथ चाटने से आराम मिलता है.
* दाद में राई को पीसकर उसमें सिरका मिलाकर लेप करने से लाभ होता है.
* राई को पीसकर उसमें कपूर मिलाकर जोड़ों पर मालिश करने से जोड़ों के दर्द में फ़ायदा होता है.
* यदि हिचकी आ रही हो, तो पाव लीटर पानी में 3 टीस्पून राई मिलाकर उबाल लें. फिर इसे गुनगुना करके पीएं.
* राई एक नेचुरल स्क्रब भी है. इसे रोज़ ऑयल में मिक्स करके मसाज करने से स्किन ग्लो करती है.
* यदि किसी ने जाने-अनजाने विष खा लिया हो, तो गर्म पानी में डेढ़ टीस्पून पिसी हुई राई और 2 टीस्पून नमक मिलाकर पीने से उल्टी होती है, जिससे विष बाहर निकल जाता है.

सुपर टिप
राई को बारीक़ पीसकर पाउडर करके हाथ-पैर व पूरे शरीर की मालिश करें. इससे रक्तसंचार सुचारु रहता है व तरोताज़गी भी बनी रहती है.

दादी मां के अन्य घरेलू नुस्ख़े/होम रेमेडीज़ जानने के लिए यहां क्लिक करें-  Dadi Ma Ka Khazana