शब्दों की शक्ति (Power Of Words)

Power Of Words

हमारे दिल में किसी के लिए क्या भाव/विचार हैं उससे ज़्यादा मायने रखते हैं उसके लिए कहे हमारे शब्द. शब्दों की बहुत अहमियत होती है. आप किसी से बात करते समय कैसे बोलते हैं इससे न स़िर्फ आपके व्यक्तिव का पता चलता है, बल्कि सामने वाले पर भी उसका गहरा असर होता है. यदि आप चाहते हैं कि आपके न रहने पर भी लोग आपको याद रखें, तो सबसे पहले अपने शब्दों को संवारें, उसे शालीन बनाएं, क्योंकि शब्दों में बहुत शक्ति होती है.

याद रह जाती हैं बातें
84 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कहने वाले स्वर्गीय पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल के जाने पर लोग उनके काम से ज़्यादा उनकी कही बातों को याद कर रहे हैं. उनकी बातें लाखों-करोड़ों लोगों के लिए प्रेरणा स्रोत है. उनके शब्दों में ऐसा जादू था कि सुनने वाला सम्मोहित हुए बिना नहीं रह सकता था, आज भले ही वो लोगों के बीच नहीं हैं, मगर उनके कहे शब्द हमेशा लोगों के दिलो-दिमाग़ में ज़िंदा रहेंगे. कलाम के मुताबिक, सपने वो नहीं होते जो रात को सोते समय नींद में आएं, सपने वो होते हैं जो रातों में आपको सोने न दें. उनकी ऐसी ही हज़ारों प्रेरणादायी बातें वर्तमान पीढ़ी का उत्साह बढ़ाती है. कलाम की ही तरह स्वामी विवेकानंद और महात्मा गांधी के कहे शब्द आज बरसों बाद भी हमें प्रेरित करते हैं. शब्दों के रूप में महान शख़्सियते हमेशा लोगों के दिलों में ज़िंदा रहते हैं. यदि आप भी चाहते हैं कि आपके पीछे लोग आपको दिल से याद करें, तो किसी से कुछ कहने से पहले अपने शब्दों को संभालें और उसे शालीन बनाने की कोशिश करें.

यह भी पढ़ें: सज्जनता- कमज़ोरी नहीं मज़बूती है


व्यक्तित्व का आईना

शब्दों में इतनी ताक़त होती है कि वो आपका व्यक्तित्व बना भी सकती है और बिगाड़ भी. जब आप किसी ऐसे व्यक्ति से मिलते हैं जोे बहुत प्यार व सम्मान से बात करता है, तो आप तुंरत उसके मुरीद बन जाते हैं, उस व़क्त आप उसके विचार/भावनाओं से अवगत नहीं रहते हैं, मगर उसके शब्दों का जादू आप पर ऐसा चल जाता है कि आपकी नज़र में वो नेक इंसान बन जाता है. दूसरी तरफ़ पहली मुलाक़ात में यदि कोई इंसान आपसे बेरूख़ी से बात करे, तो दुबारा उससे मिलना तो दूर आप उसका ज़िक्र भी पसंद नहीं करेंगे और ऐसा इंसान आपकी नज़रों में अकड़ू कहलाएगा. आपके कहे शब्द ही हैं, जो आपको लोगों का प्रिय या अप्रिय बना सकते हैं, अब फैसला आप पर है कि आप क्या बनना चाहते हैं.

मुश्किल काम बनाए आसान
यदि आपको किसी व्यक्ति से कोई काम करवाना है, तो वहां भी शब्द बहुत अहम् हो जाते हैं. यदि आप उससे प्लीज़ सर/मैडम करके विनम्रता से बात करते हैं, तो आपका काम ज़रूर हो जाएगा. इसके विपरित यदि आप अपनी ताकत या किसी और चीज़ का धौंस जमाते हुए बेरुख़ी से कहेंगे तो हो सकता है सामने वाला आपका काम करने से इनकार कर दे या जानबूझकर देर करे. दरअसल, जीवन के हर क्षेत्र में सफल होने के लिए ये बहुत ज़रूरी है कि आपकी भाषा शालीन और शब्द सुंदर हों. ऑफिस में बॉस व कलीग से लेकर घर में जीवनसाथी और बच्चों तक, हर जगह बोलते समय शब्दों पर ध्यान देना ज़रूरी है. यदि आपके शब्द सकारात्मक व सुंदर हैं तो हर जगह आपकी छवि अच्छी बनेगी, बच्चे भी आपका अनुसरण करके विनम्र बनेंगे. इतना ही नहीं किसी से प्यार से बात करने पर आपका मन भी शांत व ख़ुश रहता है और जब आप अंदर से ख़ुश रहेंगे तो आपको हर चीज़ अच्छी लगेगी, हर काम मन लगाकर करेंगे, ऐसे में ज़ाहिर है अपने काम में सफलता भी मिलेगी. क्या कभी आपने महसूस किया है कि किसी से कठोरता/बदतमीज़ी से बात करने या किसी को झिड़क देने पर आपका मन भी अशांत हो जाता है, आप स्थिर होकर अपने काम पर ध्यान नहीं दे पाते. अतः जब कठोर शब्द सामने वाले के साथ ही आपको भी अशांत/अस्थिर कर देते हैं, तो भला क्यों न ऐसे शब्दों से दूर ही रहा जाए और सुंदर शब्दों से लोगों का दिल जीतने के साथ ही अपना व्यक्तित्व निखारने की कोशिश की जाए.

कंचन सिंह 

अधिक जीने की कला के लिए यहां क्लिक करें: JEENE KI KALA